जागरण संवाददाता, देहरादून: Uttarakhand coronavirus उत्तराखंड के चकराता में टू-टू बटलियन के तीन जवान समेत 14 में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है, जबकि आठ लोग स्वस्थ भी हुए हैं। कोरोना संक्रमित किसी भी मरीज की मौत नहीं हुई है। राज्य में फिलवक्त कोरोना के 150 सक्रिय मामले हैं। जिनमें 65 प्रतिशत, 98 मामले देहरादून जनपद में हैं। बागेश्वर, चंपावत व रुद्रप्रयाग में अभी कोई सक्रिय मामला नहीं है, जबकि आठ जिलों में सक्रिय मामले दस से कम हैं।

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार निजी व सरकारी लैब से पिछले 24 घंटे में 9 हजार 140 सैंपल की जांच रिपोर्ट मिली है। जिनमें 9 हजार 126 सैंपल की रिपोर्ट निगेटिव आई है। कोरोना संक्रमण दर 0.15 प्रतिशत रही है। देहरादून में सबसे ज्यादा दस लोग संक्रमित मिले हैं। वहीं नैनीताल में दो और चमोली व ऊधमसिंहनगर में एक-एक मामला आया है। अल्मोड़ा, बागेश्वर, चंपावत, हरिद्वार, पौड़ी गढ़वाल, पिथौरागढ़, रुद्रप्रयाग, टिहरी गढ़वाल व उत्तरकाशी में कोई नया मामला नहीं आया है। बता दें, प्रदेश में अब तक कोरोना के तीन लाख 44 हजार 183 मामले आए हैं। जिनमें तीन लाख 30 हजार 466 लोग स्वस्थ हो गए हैं। कोरोना संक्रमित 7407 मरीजों की अब तक मौत हो चुकी है।

60,159 व्यक्तियों को लगा टीका

राज्य में 977 केंद्र में 60 हजार 159 व्यक्तियों का टीकाकरण किया गया। अब तक 75 लाख 69 हजार 891 व्यक्ति को वैक्सीन की पहली खुराक लग चुकी है, जबकि 49 लाख 41 हजार 827 का पूर्ण टीकाकरण हो चुका है। 18 से 44 आयु वर्ग के भी 45 लाख 70 हजार 539 व्यक्ति को वैक्सीन की पहली खुराक और 25 लाख 61 हजार 580 को दोनों खुराक लग चुकी हैं।

यह भी पढ़ें- कोरोना वायरस के नए वेरिएंट को देख सीएम धामी की अपील, कोरोना से बचाव को जारी गाइडलाइन का करें पालन

आयुर्वेद के क्षेत्र में रोजगार की संभावना अधिक

पौंधा स्थित श्री देव भूमि इंस्टीट्यूट आफ एजुकेशन साइंस एंड टेक्नोलाजी ने राष्ट्रीय फार्मेसी सप्ताह मनाया। शनिवार को राष्ट्रीय फार्मेसी सप्ताह के समापन पर कालेज में क्विज, वाद-विवाद, रंगोली, पोस्टर समेत अन्य प्रतियोगिताएं आयोजित की गई।

इस दौरान मुख्य अतिथि डा. एचआर चित्मे ने फार्मेसी के विषय में विस्तार से बताया। उन्होंने छात्र-छात्राओं को प्रदेश के पहाड़ी क्षेत्र में संचालित हो रहे आयुर्वेद प्लांट एवं हास्पिटल, कंपाउंडिंग, औद्योगिक फार्मेसी के बारे में जानकारी दी। बताया कि आयुर्वेद के क्षेत्र में रोजगार की संभावना अधिक है। भारत इस क्षेत्र में बेहतर काम कर रहा है। अन्य देश भी बड़े पैमाने पर आयुर्वेदिक दवा भारत से खरीद रहे हैैं। इस अवसर पर श्रीनिवास नौटियाल, डा. जुमा समन्ता, डा. शिवानंद पाटिल, अनुराग गुप्ता, टी सेमवाल आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें- उत्तराखंड में जल जीवन मिशन के कार्यों में अब आएगी तेजी, दो सौ करोड़ की 12 योजनाएं मंजूर

Edited By: Sumit Kumar