Move to Jagran APP

सीएम धामी ने चंपावत के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का किया दौरा, कहा- आपदा की घड़ी में लोगों के साथ है सरकार

मुख्यमंत्री ने बताया कि टनकपुर बनबसा क्षेत्रों में जो ड्रेनेज की समस्या के स्थाई समाधान हेतु धनराशि अवमुक्त कर दी जाएगी जिससे यहां के लोगों को ड्रेनेज की समस्या से निजात मिल जाएगा। उन्होंने सिंचाई विभाग को किरोड़ा नाला के डायवर्जन के लिए योजना तैयार करने के निर्देश दिए ताकि किरोड़ा नाला का पानी आबादी क्षेत्र में ना जाये और लोगों को किसी भी प्रकार का नुकसान न हो।

By Jagran News Edited By: Gaurav Tiwari Tue, 09 Jul 2024 05:23 PM (IST)
सीएम धामी ने चंपावत के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का किया दौरा, कहा- आपदा की घड़ी में लोगों के साथ है सरकार
मुख्यमंत्री ने टनकपुर, बनबसा क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण भी किया। इसके बाद अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए।

चंपावत। भारी बारिश के चलते जनपद चंपावत में हुए नुकसान के साथ ही मैदानी क्षेत्रों में जल भराव से हो रही परेशानी का जायजा लेने राज्य के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी टनकपुर व बनबसा पहुंचे। उन्होंने अधिकरियों से हुए नुकसान की जानकारी ली। इस दौरान सीएम ने विभिन्न क्षेत्रों का निरीक्षण कर प्रभावितों से मुलाकात कर उनकी समस्याएं सुनीं। सीएम ने लोगों को भरोसा दिलाया कि कि भारी बारिश के कारण प्रभावित लोगों को जो भी नुकसान हुआ है उसकी भरपाई सरकार द्वारा की जाएगी।

आपदा की घड़ी में लोगों के साथ खड़ी है सरकार- सीएम

सीएम ने लोगों को राहत देने के निर्देश कुमाऊं आयुक्त दीपक रावत एवं जिलाधिकारी नवनीत पांडे को दिए। उन्होंने आवश्यक कार्रवाई के निर्देश देते हुए कहा कि तत्काल प्रभावितों को सहायता राशि वितरित करने के साथ ही रिस्टोरेशन के काम तत्परता से किए जाए व कार्यों एवं प्रस्तावित कार्यों की मॉनिटरिंग करें। अपने भ्रमण के दौरान मुख्यमंत्री ने सैलानीगोठ, शारदा घाट पहुंचकर जल भराव के साथ ही अन्य प्रकार से प्रभावित लोगों से वार्ता कर भरोसा दिलाया कि सरकार इस आपदा की घड़ी में प्रभावित लोगों की सहायता हेतु प्रतिबद्ध है। शारदा घाट में स्थानीय लोगों ने मुख्यमंत्री को बताया कि सिंचाई विभाग द्वारा किए गए कार्यों के कारण क्षेत्र में नुकसान कम हुआ है, जिसके लिए उन्होंने मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया तथा मांग की कि इसी प्रकार के बाढ़ सुरक्षा के कार्य अन्य स्थानों में भी कराए जाए।

सरकार करेगी लोगों के नुकसान की भरपाई

इस दौरान मुख्यमंत्री ने टनकपुर, बनबसा क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण भी किया। इसके बाद अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए। उन्होंने अधिकारियों को शीघ्र ही बाढ़ से प्रभावित़ क्षेत्रों, परिवारों को हुई क्षति व नुकसान की जानकारी लेते हुए प्रभावितों को तत्काल राहत राशि उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। उन्होंने प्रभावित लोगों से मुलाकात कर कहा कि इस संकट में सरकार प्रभावित लोगों को हर सम्भव मदद पहुंचाने के लिए प्रतिबद्ध है और सरकार लोगों को हुए नुकसान की भरपाई करेगी। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि भारी बारिश के चलते जनपद में हुए सरकारी परिसम्पत्तियों का आकलन शीघ्र तैयार कर उसके भरपाई हेतु प्रस्ताव अविलम्ब तैयार कर शासन को भेजें, ताकि सरकारी परिसम्पत्तियों को हुए नुकसान की भरपाई शीघ्र की जा सकें।

सीएम धामी ने सभी सड़क मार्ग निर्माण संस्थाओं को निर्देश दिये कि जैसे ही सड़क मार्ग अवरुद्ध होने की सूचना प्राप्त होती है तो तत्काल सड़क मार्ग को खोलते हुए सुचारू करने हेतु कार्य करें, ताकि किसी भी यात्री को किसी भी प्रकार की कोई परेशानी न हो। उन्होंने टनकपुर, बनबसा मैदानी क्षेत्रों में जहां-जहां जल भराव हुआ है वहां से पानी की निकासी की तत्काल व्यवस्था करने के निर्देश अधिकारियों को दिए।

मुख्यमंत्री ने बताया कि टनकपुर, बनबसा क्षेत्रों में जो ड्रेनेज की समस्या के स्थाई समाधान हेतु धनराशि अवमुक्त कर दी जाएगी, जिससे यहां के लोगों को ड्रेनेज की समस्या से निजात मिल जाएगा। उन्होंने सिंचाई विभाग को किरोड़ा नाला के डायवर्जन के लिए योजना तैयार करने के निर्देश दिए, ताकि किरोड़ा नाला का पानी आबादी क्षेत्र में ना जाये और लोगों को किसी भी प्रकार का नुकसान न हो। उन्होंने एनएचएआई के अधिकारियों को निर्देश दिए कि जो भी नालियां चोक हुई हैं उन्हें तत्काल खोलने की कार्रवाई करें और कहीं भी चोक नालियों की वजह से जल भराव की स्थिति न आए। साथ ही सड़कों पर आये मलवा, बोल्डर आदि के निस्तारण की कार्रवाई तुरन्त करने के निर्देश सड़क निर्माण विभागों के अधिकारियों को दिए।

सीएम ने कहा कि किरोड़ा पुल से लेकर बाटनगाढ़ तक यदि मलवे आदि के कारण मार्ग अवरूद्ध हो तो उसके तत्काल खोलने की कार्यवाही करें ताकि मॉ पूर्णागिरि के दर्शन हेतु आए श्रद्धालुओं को किसी भी प्रकार की समस्या न हो। उन्होंने जल संस्थान एवं विघुत विभाग को निर्देश दिए कि पानी एवं विद्युत की व्यवस्था चौबीसों घण्टे सुचारू रखने हेतु कार्य कर लें। उन्होंने कहा कि विगत दिनों से हुए भारी बारिश के कारण जो भी नुकसान हुआ है उसके तत्काल आंकलन हेतु समय आ गया है कि अधिकारी शीघ्र ही मौके पर जाकर हुए नुकसान का आंकलन कर रिपोर्ट प्रस्तुत करें और लोगों की समस्याओं का समय से समाधान करें।

इस दौरान जिलाधिकारी नवनीत पांडे ने बताया कि भारी बारिश के दौरान सोमवार तक जनपद में 1 व्यक्ति की मौत हुई है। इस दौरान 17 गाय तथा 43 बकरियों की हानि हुई है जबकि 2 भवन पूर्ण क्षतिग्रस्त तथा 42 भवन आंशिक क्षतिग्रस्त हुए। उन्होंने बताया कि टनकपुर, बनबसा क्षेत्र में जल भराव से प्रभावित परिवारों को राहत शिविर एवं उनके रिश्तेदारों के वहां पहुंचाया गया है। इस दौरान मुख्यमंत्री द्वारा शारदा नहर पर बने सिल्ट इंजेक्टर क्षेत्र का भी निरीक्षण किया तथा महाप्रबंधक एनएचपीसी को आवश्यक निर्देश दिए। इस दौरान भाजपा जिलाध्यक्ष निर्मल महरा, विधायक प्रतिनिधि दीपक रजवार, भाजपा प्रदेश मंत्री हेमा जोशी, आयुक्त कुमाऊं दीपक रावत डीआईजी योगेंद्र रावत, जिलाधिकारी नवनीत पांडे, पुलिस अधीक्षक अजय गणपति, सीडीओ संजय कुमार सिंह सहित स्थानीय जनप्रतिनिधि, ग्रामीण आदि मौजूद रहे।