बागेश्‍वर, [घनश्याम जोशी]: पिंडारी, कफनी और सुंदरढूंगा की साहसिक यात्रा करने के इच्छुक ट्रैकरों के लिए अच्छी खबर। 16 सितंबर से ट्रैकिंग रूट खुलने के बाद वे हिमालय के मनोहारी नजारों का दीदार कर सकेंगे। हालांकि, ट्रैकिंग रूट खराब होने के कारण उन्हें ट्रैकिंग के दौरान दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। बागेश्वर की जिलाधिकारी रंजना राजगुरु ने बताया कि ग्लेशियर की यात्रा साहसिक है। वन विभाग ने मार्ग पर चैक पोस्ट बनाए हैं। वहां एंट्री दर्ज कराने के बाद ही ग्लेशियर की तरफ जाना होगा। 

15 जून से 15 सितंबर तक उच्च हिमालय की तरफ जाने पर पाबंदी है।  अब बरसात का सीजन खत्म होने को है और 16 सितंबर से ट्रैकिंग रूट खोल दिए जाएंगे। यह हिमालय के करीब जाने का भी अनुकूल समय होता है। सो, नवंबर तक ट्रैकर पिंडारी, कफनी और सुंदरढूंगा की ट्रैकिंग पर जा सकेंगे। इसके लिए वन विभाग, पर्यटन विभाग और टीआरसी ने तैयारियां भी शुरू कर दी हैं। 

रास्तों की हालत दयनीय

लोनिवि कपकोट के सहायक अभियंता ओंकार पांडेय बताते हैं कि पिंडारी ग्लेशियर जाने वाले ट्रैकिंग रूट पर कई जगह भूस्खलन हुआ है। खाती गांव तक ही ग्रामीण मुश्किल से पहुंच पा रहे हैं। द्वाली में पिंडार नदी पर बना लकड़ी का पैदल पुल और कई जगह पैदल रास्ते भी बह गए हैं। हालांकि, मौसम साफ होते ही लोनिवि की टीम रास्तों का निरीक्षण करेगी। 

ऐसे पहुंचें पिंडारी

समुद्रतल से 3832 मीटर ऊंचे पिंडारी ग्लेशियर पहुंचने के लिए बागेश्वर से चार दिन का समय लगता है। बेस कैंप बागेश्वर से कपकोट-कर्मी-धूर-खरकिया तक सड़क मार्ग है। इसके बाद खाती, फुरकिया, द्वाली और खरकिया खास पड़ाव हैं। सौंग-लोहारखेत, धाकुड़ी, खाती, द्वाली, फुरकिया जीरो प्वाइंट तक पैदल रास्ता है।

यह भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश की तर्ज पर उत्तराखंड में फिर खुलेंगे वन्यजीव अंचल

यह भी पढ़ें: प्राकृतिक नजारों से भरपूर मासरताल किसी रहस्य से कम नहीं, जानिए

Posted By: Sunil Negi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस