Move to Jagran APP

उत्तराखंड जाने से पहले जुटा लें यह अहम जानकारी, बारिश ने मचाई यहां तबाही- मलबे से हाईवे बंद

देर रात पुलिस और प्रशासन की टीम मौके पर पहुंची। गधेरे उफान पर आ गए। पुजारी चौड़ा के 14 परिवारों के साथ ही कई गांवों के लोग प्रभावित रहे। उधर चौखुटिया में महाकालेश्वर क्षेत्र में अतिवृष्टि से भारी नुकसान हुआ है। कुथलाड़ नाला उफनाने से तटबंध निर्माण कार्य में लगे लोडर मशीन ट्रेक्टर-ट्राली मिक्चर मशीन समेत अन्य कई निर्माण सामग्री और उपकरण बह गई।

By yaseer khan Edited By: Mohammed Ammar Published: Thu, 09 May 2024 07:18 PM (IST)Updated: Thu, 09 May 2024 07:18 PM (IST)
उत्तराखंड जाने से पहले जुटा लें यह अहम जानकारी, बारिश ने मचाई यहां तबाही- मलबे से हाईवे बंद

जागरण संवाददाता. अल्मोड़ा: जिले भर में अतिविृष्टि ने तबाही मचाई है। कई वाहन और मकान अतिवृष्टि से क्षतिग्रस्त हो गए। सोमेश्वर-कौसानी राज्य राजमार्ग में 14 फिट मलबा आ गया, जिससे हाइवे भी पूरी तरह से बंद पड़ा है। चौखुटिया और द्वाराहाट में भी वर्षा से काफी नुकसान पहुंचा। पुलिस, एसडीआरएफ और प्रशासन की टीम राहत और बचाव कार्य को रेस्क्यू करते रहे। हालांकि इस बीच जनहानि होने से बच गई, लेकिन लाखों का नुकसान हो गया।

कौसानी रोड मलबे से पटा

सोमेश्वर क्षेत्र में बीते बुधवार को जमकर वर्षा हुई। छतार जंगल में अतिवृष्टि से जाल धौलाड़ अधुरिया चनौदा क्षेत्र में जमकर तबाही हुई। चनौदा में अतिवृष्टि से पूरी सड़क और घरों में मलबा आ गया। सोमेश्वर-कौसानी मोटरमार्ग पूरी तरह से मलबे से पट गया। पांच से अधिक भवनों और दुकानों तक मलबा जा पहुंचा। पूरी सड़क में मलबा आने से हाइवे जाम हो गया। जबकि 10 से अधिक वाहन भी मलबे में दब गए।

कई मशीनें पानी में बह गईं

देर रात पुलिस और प्रशासन की टीम मौके पर पहुंची। गधेरे उफान पर आ गए। पुजारी चौड़ा के 14 परिवारों के साथ ही कई गांवों के लोग प्रभावित रहे। उधर चौखुटिया में महाकालेश्वर क्षेत्र में अतिवृष्टि से भारी नुकसान हुआ है। कुथलाड़ नाला उफनाने से तटबंध निर्माण कार्य में लगे लोडर मशीन, ट्रेक्टर-ट्राली, मिक्चर मशीन समेत अन्य कई निर्माण सामग्री और उपकरण बह गई।

कई मशीन अब भी मलबे में लापता हैं। उधर द्वाराहाट क्षेत्र में भी ओलावृष्टि और वर्षा से भारी नुकसान हुआ है। कई पेयजल योजनाएं बह गई, जिससे विभाग को भारी नुकसान हुआ। अतिवृष्टि से प्रभावित क्षेत्रों में गुरुवार को राहत बचाव कार्य का अभियान चलाया गया। मलबा हटाया गया। आपदा प्रबंधन विभाग नुकसान के आंकलन में जुटा हुआ है। जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी विनीत पाल ने बताया है कि अतिवृष्टि से भारी नुकसान हुआ है, टीमें रेस्क्यू कर रहीं हैं। कौसानी मोटरमार्ग बंद है, रूट डायवर्जन किया गया है।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.