वाराणसी, जेएनएन। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद की हाईस्कूल व इंटरमीडिएट परीक्षा-2020 का परिणाम शनिवार को दोपहर में घोषित कर दिया गया। हाईस्कूल में बलदेव इंटर कालेज (बड़ागांव) के धीरज पटेल 92.83 फीसद हासिल जनपद में अव्वल रहें। उन्हें 600 में से 557 अंक मिले हैं। वहीं इंटर में शिवचरण स्मारक इंटरमीडिएट कालेज (मेहदीगंज राजातालाब) के अक्षय कुमार 87.80 फीसद अंक हासिल कर जनपद में शीर्ष पर रहे। उन्हेंं 500 में से से 439 अंक मिले हैं।

इस वर्ष हाईस्कूल में 85.72 फीसद व इंटरमीडिएट में 77.93 फीसद छात्र सफल हुए। जबकि वर्ष 2019 में हाईस्कूल का रिजल्ट 80.95 फीसद व इंटर का 75.77 फीसद रहा। इस प्रकार इस वर्ष हाईस्कूल का परीक्षा परिणाम 4.77 व इंटर का रिजल्ट 2.16 फीसद चढ़ा है। नकल में सख्ती होने के बावजूद रिजल्ट गत वर्ष की तुलना में हाईस्कूल का रिजल्ट अच्छा रहा। गत वर्ष की तुलना में इस वर्ष पास होने वाले परीक्षार्थियों की संख्या गत वर्ष की तुलना में बढ़ी है।

बहरहाल हाईस्कूल में प्रभु नारायण राजकीय इंटर कालेज (रामनगर) के विशेष सोनकर व एबी वाजपेयी इंटर कालेज (श्रवणपुर) के करन पाल संयुक्त रूप से 92.16 फीसद (553/600) अंक हासिल कर जनपद में दूसरे स्थान हैं। इसी प्रकार अग्रसेन कन्या इंटर कालेज की सब्या पांडेय 91.83 फीसद (551/600) अंक हासिल कर जनपद में तीसरे स्थान पर हैं। वहीं इंटर में धर्म चक्र विहार इंटर कालेज (नवापुरा, सारनाथ) के हर्ष कुमार पटेल 87.60  फीसद  (438/500) अंक हासिल कर दूसरे स्थान व एसआइसी  (कचनार- राजातालाब)  के खुशबू मोदनवाल  85.60  फीसद (428/500) अंक प्राप्त कर तीसरे स्थान पर आने में कामयाब रहें।

रिजल्ट के लिए करना पड़ा 112 दिनों का इंतजार

हाईस्कूल व इंटरमीडिएट की परीक्षाएं इस वर्ष 18 फरवरी से शुरू हुई थी। दसवीं की परीक्षाएं तीन मार्च व को बारहवीं की छह मार्च को परीक्षाएं समाप्त हुई थी। इस वर्ष हाईस्कूल की परीक्षाएं 15 दिन व इंटर की 18 दिनोंं में खत्म हो गई। गत दो वर्ष से बोर्ड ने इंटर में भी सभी विषयों में एक पेपर कर दिया है। यही कारण है कि डेढ़ माह चलने वाली परीक्षाएं 18 दिनों में खत्म हो गई। बोर्ड ने कापियों का मूल्यांकन भी 18 मार्च से शुरू कर दिया था। कोविड-19 व लॉकडाउन के चलते बोर्ड को 19 मार्च से मूल्यांकन स्थगित करना पड़ा था। बाद में पांच मई से कई जिलों में मूल्यांकन शुरू कराया गया। वहीं वाराणसी सहित रेड जोन वाले जिलों में 19 मई से दोबारा मूल्यांकन शुरू हुआ। जनपद में भी 31 मई तक मूल्यांकन का कार्य पूरा कर लिया गया था। ऐसे में इस बार कोविड-19 के प्रकोप के चलते परीक्षाॢथयों को रिजल्ट के लिए 112 दिन लंबा इंतजार करना पड़ा। जबकि वर्ष 2019 में परीक्षा के 56 दिनों भीतर बोर्ड ने रिजल्ट जारी कर दिया था। 

तकनीक का कमाल, घर बैठे परिणाम

हाईस्कूल व इंटरमीडिएट के रिजल्ट का इंतजार परीक्षाॢथयों को सुबह से ही था। दोपहर करीब साढ़े 12 बजे रिजल्ट जारी होते ही परीक्षार्थी व उनके अभिभावक स्मार्ट फोन पर रिजल्ट देखने जुट गए। स्मार्ट फोन का प्रचलन बढ़ जाने से अब ज्यादातर परीक्षार्थी घर बैठे ही रिजल्ट देखे। यही नहीं परीक्षाॢथयों ने प्रिंट निकालने के स्थान पर स्कीन शार्ट लेना बेहतर समझा। इसके चलते इस वर्ष साइबर कैफे में परीक्षाॢथयों की भीड़ कम रही। हालांकि प्रिंट लेने के लिए तमाम परीक्षाॢथयों साइबर कैफे सहारा लिया। वहीं रिजल्ट घोषित होते ही परीक्षाॢथयों के आपस में फोन घनघनाने लगा। एक दूसरे हो बधाई देने का तांता देरशाम  तक जारी रहा। इस बार विद्यालयों में परीक्षाॢथयों को रिजल्ट दिखने कोई प्रबंध नहीं किया गया था। हालांकि कुछ विद्यालयों ने रिजल्ट देखने के लिए अध्यापकों व कर्मचारियों को बुला लिया था। वह ऑनलाइन रिजल्ट देख परीक्षार्थियों को बधाई भी दे रहे थे। इसमें कई कोचिंग संस्थाएं भी शामिल है। रिजल्ट को लेकर इस बार गली-मोहल्लों व कालोनियों में भी गहमागहमी कम दिखी रही।

जश्न मना, मिठाई से परहेज

हाईस्कूल व इंटर  का रिजल्ट इस वर्ष भी अच्छा रहा। ऐसे ज्यादातर परीक्षार्थियों घरों में जश्न का माहौल देखा गया। हालांकि मिठाई बांटने व खाने में कुछ लोग परहेज करते देखे गए।

वर्चुअल लिया आशीर्वाद

रिजल्ट देखने के बाद छात्रों ने अपने माता-पिता का पैर छूकर तरीके से आशीर्वाद लिया। वहीं गुरुजी का छात्र जैसे ही पैर छूने के लिए छात्र झुकते, गुरुजी उन्हें हो गई-हो गया कहते हुए तत्काल रोक दे रहे थे। ऐसे में इस वर्ष ज्यादातर परीक्षार्थियों ने गुरुजी का आशीर्वाद वर्चुअल लेना ही बेहतर समझा।

ढांढस बंधाते दिखे अभिभावक

हाईस्कूल व इंटर के कई परीक्षार्थियों को निराशा हाथ लगी। ऐसे कुछ बच्चों के चेहरे मुरझाए नजर आए। हालांकि उनके अभिभावक छात्रों को ढांढस बंधाते रहे।

मंदिरों के स्थान पर घर में ही टेका मत्था

हाईस्कूल व इंटर का परीक्षा परिणाम से ज्यादातर परीक्षार्थी उत्साहित दिखे। इसके बावजूद इस बार मंदिरों पर परीक्षार्थियों की भीड़ पहले जैसा नहीं दिखा। शनिवार होने के बाद भी संकट मोचन व अन्य हनुमान मंदिरों में परीक्षार्थियों की संख्या काफी कम रही। ज्यादातर परीक्षार्थी अपने घरों में ही अपने ईष्ट देवता के सामने शीश नवाजा।

जनपद में परीक्षार्थियों की संख्या  हाईस्कूल

57694  पंजीकृत

53940 सम्मिलित 

46239  उत्तीर्ण

85.72 फीसद

इंटरमीडिएट

50929 पंजीकृत

48368 सम्मिलित

37694 उत्तीर्ण

77.93 फीसद

हाईस्कूल परीक्षा -2020 - टॉप-10

1- धीरज पटेल (557/600) 92.83 फीसद, बलदेव इंटर कालेज-बड़ागांव।

2- विशेष सोनकर (553/600) 92.16 फीसद, पीएनजीआइसी-रामनगर।

2- करन पाल (553/600) 92.16 फीसद, एबी वाजपेयी इंटर कालेज-श्रवणपुर।

3- सब्या पांडेय (551/600) 91.83 फीसद, श्रीअग्रसेन कन्या इंटर कालेज-वाराणसी।

4- राजन कुमार (550/600) 91.66 फीसद, वीएलआइसी- गोसाईंपुर मोहांव।

4- आकाश कुमार (550/600) 91.66 फीसद, विकास इंटर कालेज-परमानंदपुर।

4- नैना कुमारी (550/600) 91.66 फीसद, बालिका एचएसएस चौखंडी हाथी बाजार।

5- विजय पटेल (549/600) 91.50 फीसद, साई बाबा जीआइसी रायसीपुर-वाराणसी।

5- कोमल वर्मा (549/600) 91.50 फीसद, साई बाबा जीआइसी रायसीपुर-वाराणसी।

6- प्रियंका राजभर (548/600) 91.33 फीसद, बीएनएसएसआइसी-नई बस्ती पांडेयपुर।

7- आकांक्षा मौर्या (547/600) 91.16 फीसद, मां भगवती इंटर कालेज-कोइरीपुर बड़ागांव।

8- स्नेहा पटेल (546/600) 91 फीसद, सर्वोदय इंटर कालेज-लखनसेनपुर बनकट।

9- दिवाकर मौर्या (544/600) 90.66 फीसद, श्री देवमूर्ति शर्मा इंटर कालेज-दबेथुआ वाराणसी।

9- अंकित पटेल (544/600) 90.66 फीसद, जगतपुर इंटर कालेज-जगतपुर।

9- अक्षरा कसेरा (544/600) 90.66 फीसद, एस वल्लभ विद्यापीठ बालिका इंटर कालेज-वाराणसी।

9- खुशी सिंह (544/600) 90.66 फीसद, विकास इंटर कालेज-परमानंदपुर।

10- सविता बिंद (543/600) 90.50 फीसद, एमएमआइसी-बच्छांव वाराणसी। 

इंटरमीडिएट परीक्षा -2020 - टॉप-10

1- अक्षय कुमार (439/500) 87.80 फीसद, शिवचरण स्मारक इंटरमीडिएट कालेज-मेहदीगंज राजातालाब।

2- हर्ष कुमार पटेल (438/500) 87.60 फीसद, धर्म चक्र विहार इंटर कालेज-नवापुरा, सारनाथ।

3- खुशबू मोदनवाल (428/500) 85.60 फीसद, एसआइसी कचनार-राजातालाब।

4- कृष्णु शर्मा (425/500) 85 फीसद, श्रीहरिश्चंद्र बालिका इंटर कालेज-वाराणसी।

5- अंजलि पटेल (424/500) 84.80 फीसद, एसएसबी इंटर कालेज-रुस्तमपुर आशापुर।

6- जूही गुप्ता (423/500) 84.60 फीसद, आर्य महिला इंटर कालेज।

6- नेहा मौर्या (423/500) 84.60 फीसद, विद्या विहार इंटर कालेज-सालारपुर।

7- प्रियंका पटेल (421/500) 84.20 फीसद, सुधाकर महिला इंटर कालेज-पांडेयपुर।

8- अनुष्का जायसवाल (420/500) 84 फीसद, महाबोधि इंटर कालेज-सारनाथ।

9- रोहित कुमार मौर्या (419/500) 83.80 फीसद, धर्म चक्र विहार इंटर कालेज, नवापुरा-सारनाथ।

10- किशन विश्वकर्मा (418/500) 83.60 फीसद, विकास इंटर कालेज-परमानंदपुर।

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस