वाराणसी, जेएनएन। नवजात बच्चों को सर्दी-जुकाम में दिए जाने वाले कोल्ड बेस्ट पीसी सीरप पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन आयुक्त ने इस संबंध में आदेश जारी किया है। इसे सूबे के सभी जिलाधिकारियों को भेजते हुए इसकी खरीद बिक्री पर रोक लगाने और स्टाक जब्त करने को कहा गया है। इसकी जिम्मेदारी सहायक आयुक्त औषधि व औषधि निरीक्षकों को दी गई है।  

दरअसल, हिमाचल प्रदेश के डिजिटल विजन द्वारा द्वारा सितंबर 2019 में तैयार एक बैच का सीरप संदिग्ध पाया गया है। अंबाला के ओरिसन फार्मास्यूटिकल्स द्वारा बेचे जा रहे सीरप से जम्मू के उधमपुर में कई बच्चों के मौत के सूचना मिली थी।  जांच में मिला कि सीरप में स्वास्थ्य के लिए हानिकारक डाइइथाइलिन ग्लाइकोल (डीइजी) होने के कारण नवजातों की जान गई। इसे देखते हुए समस्त औषधि निरीक्षकों को अपने क्षेत्रों में दवा की दुकानों की जांच कर संबंधित सीरप पाए जाने पर सीज करने का निर्देश दिया गया है। दुकान पर दवा नहीं भी मिलती है तो हिदायत देेने के लिए भी कहा गया है कि संबंधित सीरप की बिक्री न होने पाए। 

बोले औषधि निरीक्षक : ड्रग व केमिस्ट संगठनों को सीरप के संबंध में जानकारी देते हुए इसकी बिक्री न करने का निर्देश दिया गया है। दुकानों की जांच की जा रही है। फिलहाल संबंधित बैच व सीरप का कोई स्टाक बनारस में नहीं मिला है। -सौरभ दुबे, औषधि निरीक्षक।

बोले चिकित्‍सक : डाइइथाइलिन ग्लाइकोल (डीइजी) सेहत के लिए बेहद खतरनाक है। इसका उपयोग प्लास्टिक इंडस्ट्री में किया जाता है। हो सकता है यह अशुद्धता के कारण सीरप में आया हो। इससे बच्चों में लिवर, किडनी व रीनल फेल्योर हो सकता है। -डा. अशोक राय, प्रदेश अध्यक्ष, आइएमए।

 

Posted By: Abhishek Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस