गाजीपुर, जागरण संवाददाता। महर्षि विश्वामित्र स्वशासी राज्य चिकित्सा महाविद्यालय गाजीपुर का लोकार्पण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को वर्चुअल तरीके से दोपहर में किया। प्रधानमंत्री द्वारा प्रदेश के कुल छह अन्य मेडिकल कालेजों का लोकार्पण सिद्धार्थनगर जनपद से किया गया तो इसकी तैयारियां रविवार की देर शाम तक पूरी कर ली गईं थीं। लेक्चर रूम में ही लोकार्पण की वर्चुअली कार्यक्रम को संपन्न कराया गया। जिलाधिकारी ने कार्यक्रम के लोकार्पण के लिए मुख्य अतिथि एवं विशिष्ट अतिथियों एवं आगंतुकों के आने व बैठने की समुचित व्यवस्था कराई। लोकार्पण के बाद यहां एमबीबीएस की 100 सीटों पर प्रवेश शुरू हो गया है। यह मेडिकल कालेज जिले के लिए स्वास्थ्य के क्षेत्र में मील का पत्थर साबित होगा।

सोमवार की दोपहर में महर्षि विश्वामित्र स्वशासी राज्य चिकित्सा महाविद्यालय सोमवार को जनपवासियों को समर्पित कर दिया गया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसका आनलाइन लोकार्पण किया। इस दौरान टीवी स्क्रीन पर पीएम का भाषण सुनने के लिए बेसब्री से वहां मौजूद लोग इंतजार भी करते रहे। लोकार्पण कार्यक्रम का शुभारंभ कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने मां सरस्वती की प्रतिमा के सामने दीप प्रज्ज्वलित कर किया।

सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा कि गाजीपुर में मेडिकल कालेज बन जाने से लगभग 100 डाक्टर प्रतिवर्ष मिलने लगेंगे, जिससे जिले मे चिकित्सकों की कमी नहीं रह जायेगी। इस सरकार में अब तक प्रदेश में 32 मेडिकल कालेज खोले गए हैं, ये सभी मेडिकल कालेज पीपीपी माडल पर तैयार किए जा रहे हैं। यह एक बहुत बड़ी उपलब्धि है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री का स्वच्छता कार्यक्रम अभियान लागू किए जाने के वजह से पूरे भारत मे कई बीमारियों में कमी आई है। मेडिकल कालेज के साथ ही मिडवाईफ नर्सिग का कोर्स भी शीघ्र ही शुरू हो जाएगा। इसके लिए इस जनपद मे भी मिडवाइफ नर्सिंग के क्षेत्र में कार्य करने के लिए प्रधानाचार्य मेडिकल कालेज को निर्देशित किया गया है। हमारी सरकार का ‘एक जिला एक मेडिकल कालेज का सपना’ है जो प्रदेश में शीघ्र ही पूर्ण किया जाएगा।

Edited By: Abhishek Sharma