जागरण संवाददाता, वाराणसी : बनारस तो अपनी चाल चलता है, यहां के रहनवारों के चाहने पर सूरज निकलता और दिन ढलता है। अब तक इस नगर के अल्हड़पन की बानगी के तौर पर अडिय़ों की बैठकबाजी में 'फेंकी' जाने वाली इस कहावत को मंगलवार की शाम बनारस वालों ने अपने शहर के समग्र विकास की खातिर दूसरे अर्थ दिए। छोटे-मोटे मसले के लिए भी सिर्फ सरकार की ओर ताक-झांक की रवायत बदलने के संकल्पों के साथ इसमें स्वसरोकार, दायित्व व जिम्मेदारी के भाव जोड़ लिए।

वैसे इसकी शुरुआत तो दैनिक जागरण की ओर से 'माय सिटी माय प्राइड' महाअभियान के आगाज के साथ ही हो गई थी लेकिन नदेसर स्थित होटल गेटवे में आयोजित फोरम में इसे पूरी दृढ़ता के साथ स्पष्ट भी कर दिया। बनारस के इस रंग से अभिभूत जनप्रतिनिधियों व अधिकारियों ने नगर विकास के सभी कार्यों में रायशुमारी और जनभागीदारी को अपनाने का वादा किया।

मुख्य अतिथि केंद्रीय चिकित्सा, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री अनुप्रिया पटेल ने साफ शब्दों ने दैनिक जागरण के महाअभियान के स्लोगन को सिर माथे लगाया। कहा जनता ही जनार्दन है, यदि वह सरकार बना और गिरा सकती है तो अपने नगर की साज-संवार भी खुद कर सकती है। ऐसे में इसकी जिम्मेदारी खुद अपने कंधों पर लेनी होगी। विशिष्ट अतिथि प्रदेश के राज्य मंत्री डा. नीलकंठ तिवारी ने पीएम के संकल्पों का हवाला दिया। कहा सरकार कई योजनाओं के साथ शहर की तस्वीर बदलने की ओर बढ़ रही है लेकिन इसे पूर्णता तभी मिल सकेगी जब जन जन की सहभागिता मिलेगी।

एसएसपी आनंद कुलकर्णी व वीडीए सचिव विशाल सिंह ने कहा सिविल सोसायटी के सहयोग से हर क्षेत्र में बेहतरी का संयोग बनेगा। विधायक रवींद्र जायसवाल, नीलरतन पटेल , कैलाशनाथ सोनकर समेत जनप्रतिनिधियों व अफसरों ने खुले सत्र में प्रतिभागियों के सवालों का जवाब दिया, शंका समाधान भी किया। फेसबुक और रेडियो सिटी के सहयोग से एक जुलाई से चलाए जा रहे महाभियान में शिक्षा, स्वास्थ्य, आधारभूत सुविधाएं, अर्थव्यवस्था और सुरक्षा जैसे क्षेत्रों के सहभागियों ने अपने-अपने स्तर पर शहर की बेहतरी व समाधान के लिए शपथबद्ध हो वादे भी किए।

दैनिक जागरण के निदेशक वीरेंद्र कुमार ने स्वागत करते हुए महाभियान का निष्कर्ष सामने रखा। संचालन रेडियोसिटी की आरजे नेहा ने किया। दैनिक जागरण के उत्तर प्रदेश संपादक आशुतोष शुक्ला ने जिम्मेदारियां याद दिलाते हुए धन्यवाद दिया।

By Krishan Kumar