जागरण संवाददाता, वाराणसी। माय सिटी, माय प्राइड यह महज अभियान का नाम नहीं, बल्कि मकसद है अपने शहर के प्रति शहरवासियों में भाव जगाने का। प्राचीन नगरी काशी के विकास में कई दिक्कतों का निदान करने की जरूरत उभरकर सामने आई हैं। इनका इलाज करना है तो समस्या रूपी हल भी टटोला, लेकिन उस पर चिंता व्यक्त करने के बजाए दैनिक जागरण ने प्रयास किया कि आमजन सकारात्मक सोच के साथ सुधार के लिए कदम बढ़ाएं। निश्चित तौर पर उनके निजी प्रयास इतने बड़े परिवर्तन के लिए नाकाफी ही होंगे। लिहाजा, जनप्रतिनिधियों और संबंधित अधिकारियों को भी अभियान से जोड़ा है। इसी मुहिम का अहम पड़ाव रविवार को माय सिटी माय प्राइड फोरम के रूप में होगा, जहां नगरवासी ही अपने शहर के विकसित करने की भूमिका व लक्ष्यों के साथ तय करेंगे। इसी कड़ी में मंगलवार को नदेसर स्थित होटल गेट-वे में तीन बजे से माय सिटी माय फोरम आयोजित किया जा रहा है, जिसमें सभी लक्ष्य तय होंगे, सभी वर्ग, संस्थाएं, जनप्रतिनिधि और अधिकारी अपनी-अपनी भूमिका तय कर उस दिशा में कदम बढ़ाने की घोषणा करेंगे।

माय सिटी माय प्राइड महाअभियान की शुरुआत जागरण ने जुलाई से की। इसमें शिक्षा, स्वास्थ्य, अर्थव्यवस्था, आधारभूत सुविधाएं और सुरक्षा के मुद्दे को सबसे जरूरी मानते हुए शामिल किया। इन पांच सुविधाओं की वास्तविक स्थिति क्या है और क्या जरूरत है। तय हुआ कि सरकार सुधार के प्रयास भले ही कर रही हो, लेकिन अभी अपेक्षित सुधार नहीं आ पा रहा है। संसाधनों की कमी के साथ ही सरकारी मशीनरी, साथ ही आमजन को भी जिम्मेदारी का उतना अहसास नहीं है। ऐसे में दूसरों को प्रोत्साहित कैसे किया जाए। इसी विचार के साथ हमने अलग-अलग क्षेत्रों की उन शख्सियतों को चिह्नित किया, जो आमजन होते हुए भी अपने संसाधनों और सकारात्मक सोच से शहर व समाज के विकास में अहम भूमिका निभाते हुए रीयल हीरो के रूप में सामने आए हैं। यही नहीं, व्यावहारिक रूप से क्या किया जाना जरूरी है, इसे तथ्यात्मक रूप से समझाने के लिए बतौर विशेषज्ञ ऐसे शहरवासियों की राय को अभियान में स्थान दिया, जो अपने-अपने क्षेत्रों की नब्ज पर सलीके से हाथ रखे हुए हैं।

राउंड टेबिल कांफ्रेंस में चिह्नित हुईं प्राथमिकताएं
अभियान में हमने अलग-अलग विषयों पर राउंड टेबिल कांफ्रेंंस आयोजित कर वह प्राथमिकताएं चिह्नित कीं, जो वाकई शहर की सूरत संवारने के लिए बहुत जरूरी है। तय किया कि फोरम आयोजित कर जनप्रतिनिधियों और अफसरों के जरिये शासन-प्रशासन के स्तर से भी मांग-जरूरतों को पूरा कराने का प्रयास किया जाए।

फोरम में प्रमुख रूप से होंगे शामिल
अनुप्रिया पटेल, केंद्रीय राज्यमंत्री, मृदुला जायसवाल महापौर, अनिल राजभर राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार, नीलकंठ तिवारी राज्यमंत्री, विधायक रवींद्र जायसवाल, सौरभ श्रीवास्तव, कैलाश सोनकर, सुरेंद्र सिंह ऐढ़े, अवधेश सिंह, नीलरतन पटेल, एमएलसी लक्ष्मण आचार्य, केदारनाथ सिंह, अशोक धवन व अपराजिता सोनकर, जिला पंचायत अध्यक्ष रहेंगी। दीपक अग्रवाल, मंडलायुक्त, सुरेंद्र सिंह, जिलाधिकारी, पीवी रामाशास्त्री, एडीजी जोन, विजय सिंह मीना, आइजी रेंज सहित शहर के आमंत्रित गण्यमान्यजन शामिल होंगे।

By Gaurav Tiwari