नई दिल्ली, जेएनएन ।  वाराणसी में अब जल्द ही उद्योगों के दिन सुधरने वाले हैं। इससे शहर की मंद औद्योगिक छवि को और संवारने के लिए इंडियन इंडस्ट्रीज एसोसिएशन से जुड़े उद्यमियों ने कदम बढ़ाए हैं। उद्यमी अब औद्योगिक क्षेत्रों को सजाने-संवारने के लिए सालाना पांच लाख रुपये खर्च करेंगे। खास यह है कि 'जागरण न्यू मीडिया' के 'माय सिटी माय प्राइड' अभियान के तहत 11 समाधान तय हुए थे। इस अभियान के तहत वाराणसी में 11 मुद्दों के समाधान का संकल्प लिया गया है, इन्हें पूरा करने में सामाजिक संस्थाएं, सरकारी विभाग और कॉरपोरेट सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी के तहत कंपनियां सहभागी होंगी।
शहर की बेहतरी के 11 समाधान
1. औद्योगिक क्षेत्रों को सजाने-संवारने के लिए उद्यमी सालाना पांच लाख रुपये खर्च करेंगे। (संरक्षक- इंडियन इंडस्ट्रीज एसोसिएशन)
2. आइएमए की ओर से अत्याधुनिक ब्लड बैंक व ऑटो डीफिब्रिलेटर लगेंगे। (संरक्षक- आइएमए वाराणसी)
3. क्षेत्रवार बीमारी विशेष चिह्नित कर आइएमए की मदद से विशेषज्ञ चिकित्सा कैंप लगेंगे। (संरक्षक- आइएमए)
4. पर्यावरण संरक्षण के लिए 25 हजार पौधों का रोपण किया जाएगा। (संरक्षक- सृजन न्यास संस्था)
5. व्यस्ततम इलाकों व प्रमुख बाजारों में व्यापार मंडल सीसीटीवी कैमरे लगवाएगा। (संरक्षक - वाराणसी व्यापार मंडल)
6. सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी के लिए स्वयंसेवियों की ओर से मुफ्त कोचिंग दी जाएगी। (संरक्षक- डीएवी कॉलेज के शिक्षक)
7. स्कूलों में एनडीआरएफ की ओर से आपदा राहत व बचाव कार्यशालाएं आयोजित होंगी। (संरक्षक- एनडीआरएफ)
8. शहर में प्रशासन के सहयोग से पर्यटन पुलिस चौकियां स्थापित की जाएंगी। (संरक्षक- जिला प्रशासन)
9. शहर के अंधेरे इलाकों में नगर निगम के सहयोग से स्ट्रीट लाइट लगेंगी। (संरक्षक- नगर निगम)
10. सीएसआर से प्राथमिक विद्यालयों की दशा सुधारी जाएगी। (संरक्षक- नाल्को)
11. उद्योगों को कुशल वर्कर के लिए एमएसएमई द्वारा विशेष प्रशिक्षण शिविर आयोजित किए जाएंगे। (संरक्षक- एमएसएमई)

 

By Krishan Kumar