जागरण संवाददाता, वाराणसी
बनारस में साफ-सफाई की व्यवस्था को पटरी पर लाना बड़ी चुनौती रही है। यही कारण है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संसदीय क्षेत्र में घाट की मिट्टी हटाकर और झाड़ू लगाकर स्वच्छ़ता मिशन को रफ्तार देने की कोशिश की थी।इसी कारण जब शहर के सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट को आर्थिक सहयोग की जरूरत पड़ी तो भारत हैवी इलेक्ट्रिकल लिमिटेड (भेल हर्प) अपने सामाजिक दायित्‍व को पूरा करने के लिए आगे आया। उसने 5.29 करोड़ रुपये की मदद नगर निगम को की है। इसके तहत गंगा किनारे के 14 वार्डों राजघाट, प्रहलाद घाट, भैरोनाथ, दशाश्वमेध घाट व शिवाला में कूड़ा कलेक्शन और ट्रांसपोर्टेशन की जिम्मेदारी उठाई है।

इस क्रम में भेल व्हील बैरो, डंपर प्लेवसर, बिंस, हैडकार्ट, साइकिल-रिक्‍शा, पोर्टेबल कांपैक्‍टर, गार्बेज कांपैक्ट र, स्वी‍पिंग मशीन संसाधन मुहैया कराए गए। वहीं भेल की तरफ से शहर के विभिन्‍न शिक्षण संस्थानों, आंगनबाड़ी सेंटर व दिव्यांगो और वृद्धों से जुड़ी संस्‍थाओं में व्हील चेयर्स, शैक्षणिक उपकरण, कम्‍प्‍यूटर, प्रिंटर सामाजिक दायित्व के तहत मुहैया कराए हैं। जीवन ज्योति इंस्टी्ट्यूट सारनाथ में उपकरण, हॉस्टल के लिए सामग्री व व्यायामशाला के लिए जरूरी संसाधन उपलब्ध कराया गये हैं।

सार्वजनिक स्थलों और शैक्षणिक परिसरों में शौचालय भी बनवाए गए। छोटे बच्चों के स्कूलों में चाइल्ड फ्रेंडली शौचालय बनवाए गए। भेल की ओर से बनारस में कौशल विकास से जुड़ी भी गतिविधियां चलाई गईं हैं। जिसमें महिलाओं को आर्थिक रूप से सशक्त करने के लिए उनके हाथों में हुनर के लिए प्रशिक्षण दिया गया। इस क्रम में कंप्यूटर, ब्यू‍टीशियन व सिलाई प्रशिक्षण दिलाया गया।

By Krishan Kumar