वाराणसी, जेएनएन। प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम नागेपुर के लोक समिति आश्रम में महिलाओं और पुरुषों ने लैंगिक समानता के लिए शनिवार को संकल्प लिया। दिल्ली की संस्था 'साहस' और मुहिम वाराणसी के सहयोग से आशा ट्रस्ट और लोक समिति द्वारा आयोजित दो दिवसीय कार्यक्रम में महिलाओं व पुरुषों के साथ जेंडर ग्राम कार्यक्रम की शुरुआत की गई। कार्यशाला के पहले दिन कार्यक्रम की शुरुआत ग्रामीण क्षेत्रों में लैंगिक समानता लाने की दिशा में की गई। जिसके तहत जेंडर, यौनिकता और सरोकार के मुद्दे पर दो दिवसीय (5-6 जनवरी, 2019) कार्यशाला की शुरुआत की गई, जिसमें प्रतिभागियों ने लैंगिक असमानता के मुद्दे अपने विचार साझा किये और अपने घर समाज में लैंगिक समानता लाने का संकल्प लिया। 

कार्यक्रम की शुरुआत साहस संस्था की पूर्वी यादव, मोना यादव, लोक समिति के नन्दलाल मास्टर और मुहिम संस्था की स्वाती सिंह ने दीप प्रज्वलन करके किया। कार्यशाला के पहले सत्र में बतौर प्रशिक्षक मोना यादव ने प्रतिभागियों के साथ समाज में लगातार बढ़ती यौन हिंसा के मुद्दे को केंद्रित कर जेंडर के मुद्दे पर प्रशिक्षण दिया।कार्यशाला में अलग-अलग गांव से आये करीब तीस प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया।

कार्यक्रम के दूसरे सत्र में पूर्वी यादव ने जेंडर के माध्यम से लैंगिक समानता को सरोकार से जोड़ने के संदर्भ में प्रतिभागियों को प्रशिक्षित किया। कार्यशाला के अंतर्गत अलग-अलग पोस्टर, ग्रुप एक्टिविटी और खेल के माध्यम से प्रतिभागियों ने रोजमर्रा की ज़िंदगी में होने वाले लैंगिक भेदभाव को साझा किया। कार्यशाला में मुख्य रूप से, मैनम, अनीता, पंचमुखी, श्यामसुंदर, रामकिंकर कुमार, शमा बानो, विद्या, बेबी, राजकुमारी, धनन्जय, प्रेमा, मधुबाला, सोनी, प्रेमा, सरिता और रामबचन  शामिल रहे।

Posted By: Abhishek Sharma