आजमगढ़, जागरण संवाददाता। समाजवादी पार्टी में अब पूर्वांचल में जिस गोपालपुर से अखिलेश यादव के लड़ने की चर्चाओं ने जोर पकड़ा था वहां पर समाजवादी पार्टी में अब विरोध के स्‍वर मुखर हो गए हैं। विरोध के स्वर उठे तो सबसे पहले सपा प्रत्याशी नफीस के खिलाफ गोपालपुर से चुनाव लड़ने का एलान पूर्व मंत्री वसीम अहमद की पत्‍नी शमा वसीम ने कर दिया है। इस बाबत उन्‍होंने कहा कि दो-तीन दिन में पता चल जाएगा कि वह किसी दल से होंगी या निर्दल प्रत्याशी के तौर पर वह चुनावी मैदान में होंगी।

विधानसभा क्षेत्र गोपालपुर से सपा का टिकट न मिलने से नाराज पूर्व मंत्री वसीम अहमद की पत्नी शमा वसीम ने बगावत का बिगुल फूंक दिया है। उन्होंने गोपालपुर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ने की घोषणा की है। हालांकि यह भी कहा कि दो-तीन में यह बात साफ हो जाएगी कि वह किसी दल से चुनाव या निर्दल प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ेगी। शनिवार को अपने आवास पर समर्थकों से बातचीत के बाद तीन बाद विधायक और अखिलेश यादव की सरकार में मंत्री रहे वसीम अहमद की पत्नी शमा वसीम ने कहा कि वह पूरी तरह आश्वस्त थीं कि समाजवादी पार्टी उनको टिकट देगी।

उनका कहना है कि राष्ट्रीय अध्यक्ष ने मुझे पूरी तरह से आश्वस्त किया था कि वह 2022 में गोपालपुर से चुनाव लड़ कर स्वर्गीय वसीम अहमद के सपनों को साकार करें। अब जब सिटिंग एमएलए नफीस अहमद का टिकट घोषित कर दिया गया तो वह क्षेत्र की जनता का व्यापक समर्थन का दावा करते हुए पार्टी से बगावत कर विधानसभा का चुनाव लड़ने की बात कह रही हैं। उन्होंने साफ किया कि दो-तीन दिनों में यह बात साफ हो जाएगी कि वह किस दल के टिकट पर चुनाव लड़ेंगी या निर्दलीय प्रत्याशी होंगी। इसके लिए उन्होंने क्षेत्रीय लोगों के साथ बैठक चुनाव लड़ने की अगली रणनीति पर विचार किया।

Edited By: Abhishek Sharma