Move to Jagran APP

Unnao Bus Accident: हादसे के बाद शवों से अमानवीयता, वायरल वीड‍ियो से अफसरों की हुई किरकिरी तो SP ने दी सफाई

उन्नाव बस हादसे में मृत यात्रियों के शव बांगरमऊ सीएचसी में मार्ग पर बिना चादर से ढके ही डाल दिए गए। किसी ने सोशल मीडिया पर शवों के साथ अमानवीयता का वीडियो बनाकर वायरल कर दिया। शवों के साथ अमानवीयता के मामले में एसपी सिद्धार्थ शंकर मीना ने कहा कि सीएचसी में अफरा-तफरी थी। कोई जगह नहीं मिलने पर शवों को खुले स्थान पर रखवाकर सील किया गया।

By Jagran News Edited By: Vinay Saxena Thu, 11 Jul 2024 07:43 AM (IST)
लखनऊ-आगरा एक्‍सप्रेस-वे पर हादसे के बाद क्षति‍ग्रस्‍त बस। - पीटीआई

जागरण संवाददाता, उन्नाव। लखनऊ-आगरा एक्सप्रेसवे पर हादसे के बाद शवों के साथ हुई अमानवीयता चर्चा का विषय रही। पुलिस से हुई चूक से प्रशासनिक अधिकारियों को किरकिरी का सामना करना पड़ा। दुर्घटना में मृत यात्रियों के शव बांगरमऊ सीएचसी में मार्ग पर बिना चादर से ढके ही डाल दिए गए। किसी ने सोशल मीडिया पर शवों के साथ अमानवीयता का वीडियो बनाकर वायरल कर दिया।

आपाधापी में पुलिस से चूक पर चूक होती गई। शवों को सील करने के बाद उन्हें बॉडी कवर बैग में भी नहीं रखवाया और एक मिनी ट्रक में लादकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया गया। शवों के साथ अमानवीयता के मामले में एसपी सिद्धार्थ शंकर मीना ने कहा कि सीएचसी में अफरा-तफरी थी। कोई जगह नहीं मिलने पर शवों को खुले स्थान पर रखवाकर सील किया गया। बॉडी कवर बैग में शव क्यों नहीं रखवाए गए, इसकी जांच कराई जाएगी।

बेहोश हुआ पुलिस कर्मी

हादसे के बाद बांगरमऊ सीएचसी ले जाने के लिए शवों को मिनी ट्रक में रखवाया जा रहा था। बांगरमऊ कोतवाली के सिपाही राममिलन सोनकर को भी इस कार्य में लगाया गया था। हादसे का मंजर व क्षत-विक्षत शव देखने के बाद उसका ब्लड प्रेशर लो हो गया और वह बेहोश हो गया।

यह भी पढ़ें: Unnao Accident Inside Story: 'मेरे मम्मी-पापा और…, कोई मिला दो', हादसे में उजड़ गया पूरा परिवार; बचे लोगों ने सुनाई आपबीती

यह भी पढ़ें: Unnao Accident: गहरी नींद में सोए फिर कभी नहीं उठे… क्षत-विक्षत हालत में पड़े लोगों को खींचकर निकाला; तस्वीरें देख कांप जाएंगी रूह