सुलतानपुर : कामतागंज बाजार में लखनऊ- वाराणसी हाईवे पर ओवर लोड मौरंग लदे ट्रक ने बाइक सवार रिटायर्ड फौजी व युवक को कुचल दिया। इतना ही नहीं ट्रक चालक दोनों को घसीटते काफी दूर तक ले गया। इस क्रम में आरोपित चालक ट्रक छोड़कर भाग गया। क्रेन से दोनों शवों को करीब एक घंटे बाद निकाला जा सका। एसडीएम राम अवतार और सीओ सतीश चंद्र शुक्ल दुर्घटनास्थल पर पहुंचे।

कोतवाली क्षेत्र के रमऊ का पूरवा लाखीपुर निवासी रिटायर्ड फौजी दिनेश दूबे डेयरी संचालित करते थे। रविवार सुबह करीब नौ बजे वह गोसाईं का पुरवा रायचंद्रपुर निवासी धीरज यादव के यहां खोया देने गए थे, जहां से धीरज के साथ कामतागंज बाजार में एक दुकान पर आए थे। काम निपटाने के बाद दोनों लौट रहे थे। हाईवे पर ही शंभूगंज मोड़ के पास लम्भुआ की ओर जा रहे मौरंग लदे ट्रक ने बाइक में टक्कर मार दी।

हादसे में दिनेश व धीरज बाइक सहित ट्रक के पहिये में फंस गए और करीब सौ मीटर तक घसीटते चले गए। डिवाइडर से टकराने के बाद तेज रफ्तार ट्रक का अगला टायर फट गया। इसी क्रम में दोनों युवकों की पहिये के नीचे आने से मौत हो गई। दुर्घटनास्थल पर काफी संख्या में लोग एकत्र हो गए। दिनेश के परिवार में उनकी पत्नी, एक बेटा व एक बेटी हैं, जो कि बीएससी की पढ़ाई कर रहे हैं। वहीं, धीरज तीन भाइयों में सबसे बड़ा था, जो कि घर-घर दूध इकट्ठा कर उसे बेचने का काम करता था।

कोतवाल को लगाई फटकार :

हादसे के काफी देर बाद तक ट्रक के नीचे ही दिनेश व धीरज का शव फंसा रहा, जिन्हें निकालने का प्रयास पुलिस की तरफ से नहीं किया जा रहा था। इस पर सीओ सतीश चंद्र शुक्ल ने कोतवाल देवेंद्र सिंह को फटकार लगाई। इसी क्रम में क्रेन मंगाकर शवों को निकाला गया। सीओ ने बताया कि जांच में पता चला है कि धम्मौर थाना क्षेत्र के अंकारीपुर से मौरंग लादकर ट्रक चालक आ रहा था, जिसे जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

बाइक के पहिये में फंसी साड़ी, मां-बेटी जख्मी :

हनुमानगंज निवासी रमेश कुमार गुप्ता रविवार को बाइक से पत्नी ममता व चार माह की पुत्री को लेकर पयागीपुर स्थित बच्चों के अस्पताल जा रहे थे। सुलतानपुर-वाराणसी हाईवे पर घासीपुर के पास ममता की साड़ी का पल्लू बाइक के पिछले पहिए में फंसकर लिपट गया। इसके चलते महिला बेटी सहित सड़क पर गिरकर घिसटने लगीं, जिससे वे गंभीर रूप से जख्मी हो गई।