शामली (जेएनएन)। झिंझाना थाना क्षेत्र के गांव केरटू में संप्रदाय विशेष के दबंगों से खौफजदा एक परिवार पलायन कर गया। पुलिस से मिन्नतें कीं, लेकिन वह भी प्रभावशाली दबंगों के गिरेबान पर हाथ डालने की हिम्मत नहीं जुटा सकी। जाते समय परिवार की महिला ने खुद ही अपने मकान पर लिख दिया-'यह मकान बिकाऊ है।

केरटू निवासी सतपाल के परिवार का भरण-पोषण रिश्तेदारों की मदद से होता है। बताया जाता है कि सत्यपाल मंदबुद्धि है। बेटी पूजा और शिवानी की शादी हो चुकी है जबकि बेटा मयंक गांव में ही कक्षा छह में पढ़ता है। गांव में उनका मकान पत्नी रेखा के मायके वालों ने बनाकर दिया है। रेखा का आरोप है कि वह ग्राम पंचायत के हैंडपंप से पानी भरने जाती है तो संप्रदाय विशेष का दबंग पड़ोसी गाली-गलौज व मारपीट करता है।

दो मई व 29 मई को दबंगों ने उन्हें पीटा। आरोपितों के प्रभाव के कारण पुलिस ने कार्रवाई नहीं की। उनका कहना है कि बेटे मयंक को झूठे केस में फंसाने की धमकी दी गई, जिससे पूरा परिवार दहशत में आ गया और रविवार को घर का सारा सामान गाड़ी में भरकर करनाल पलायन कर गया। किसी ने रोकने का प्रयास नहीं किया। चलते वक्त उन्होंने खुद ही दरवाजे पर लिख दिया 'यह मकान बिकाऊ है।

एसपी देव रंजन वर्मा ने बताया कि केरटू गांव में पानी पर रेखा का पड़ोसी से झगड़ा हुआ था। समझौते के बाद दोनों पक्ष फिर से झगड़ गए। रेखा ने डर व दबाव में पलायन करने की बात कही है। जांच के बाद आरोपितों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। 

Edited By: Ashish Mishra