जागरण संवाददाता, संभल। Sambhal Meat Factory : संभल के गांव चिमियावली में मीट फैक्ट्री से निकल रही ट्रैक्टर ट्रॉली को लेकर बवाल हो गया। आरोप है कि ट्रैक्टर ट्रॉली में गोबर के लिए नीचे पशुओं के अवशेष छुपाकर अवैध रूप से बाहर भेजे जा रहे थे। इसको लेकर हिंदू सम्प्रदाय के लोगों ने हंगामा करना शुरू कर दिया।

विरोध करने पर की मारपीट

दूसरे सम्प्रदाय के लोगों ने विरोध किया तो मारपीट हो गई। जमकर मारपीट हुई। सूचना मिलने पर एएसपी, सीओ कोतवाली, नखासा, हजरतनगर गढ़ी, हयातनगर थाने की पुलिस मौके पर पहुंच गई। पुलिस ने घेराबंदी करके 50 से अधिक लोगों को हिरासत में ले लिया। शांति व्यवस्था कायम करने के लिए पुलिस ने गांव में पैदल मार्च किया। पूर्व प्रधान के घर दबिश दी।

गांव में डाला जाता है मीट फैक्ट्री का गोबर

गांव चिमियावली स्थित एक मीट फैक्ट्री से निकलने वाले गोबर को गांव में ही डाला जाता है। मंगलवार को जब मीट फैक्ट्री से ट्रैक्टर ट्राली द्वारा गोबर निकाला जा रहा था तभी भी हिंदू सम्प्रदाय के कुछ लोग मीट फैक्ट्री के पास पहुंच गए और गोबर में पशुओं में अवशेष होने की बात कहते हुए हंगामा करना शुरू कर दिया।

नवरात्र में पशुओं के अवशेष डालने का आरोप

उनका कहना था कि नवरात्र के दिनों में भी पशुओं के अवशेष खेतों के किनारे डाले जा रहे हैं। हंगामा होने की सूचना पर चिमियावली गांव के पूर्व प्रधान मोहम्मद अहमद मीट फैक्ट्रियों के कर्मचारियों के साथ मौके पर पहुंच गया और हंगामा करने का विरोध करना शुरू कर दिया। इसी बात को लेकर दोनों पक्षों के बीच मारपीट शुरू हो गई।

बीच सड़क में हुई मारपीट

बीच सड़क पर मारपीट होने पर अफरा-तफरी मच गई। दो सम्प्रदायों के बीच मारपीट की सूचना पर एएसपी श्रीश्चंद्र, सीओ जितेंद्र कुमार कोतवाली, हयातनगर, नखासा, हजरतनगर गढ़ी थाना पुलिस के साथ मौके पर पहुंच गए। वहां पर मारपीट कर रहे लोगों को हिरासत में ले लिया।

पुलिस ने ट्रैक्टर ट्रॉली कब्जे में लेकर भीड़ को दौड़ाया

ट्रैक्टर ट्राली को कब्जे कर पुलिस ने मौके पर जमा भीड़ को दौड़ा लिया। लोग पुलिस से बचने के लिए खेतों में दौड़ने लगे। इसके बाद पुलिस को जो भी मीट फैक्ट्री के आसपास में दिखा उसे हिरासत में कर कोतवाली भेज दिया। इसके बाद पुलिस ने गांव में पैदल मार्च किया। लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की।

पूर्व प्रधान के घर दी दबिश

पूर्व ग्राम प्रधान को पकड़ने के लिए उसके घर में दबिश दी, लेकिन वह घर पर नहीं था। पुलिस ने उसके घर में तोड़फोड़ भी की। वहां पर दबिश देने के बाद फिर से पुलिस मीट फैक्ट्रियों के पास में पहुंच गई। यहां से फिर से कुछ लोगों को हिरासत में ले लिया। एक मीट फैक्ट्री के लगभग 32 कर्मचारियों को हिरासत में लिया गया है।

गांव में पुलिस फोर्स तैनात

वह सभी कर्मचारी बिहार समेत अन्य राज्यों के है। गांव में शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस फोर्स तैनात कर दी गई है। सीओ जितेंद्र कुमार ने बताया कि दोनों पक्षों के 50 से अधिक लोगों को हिरासत में लिया गया है। उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

Edited By: Samanvay Pandey

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट