जेएनएन, सम्भल : बिजली विभाग की ओर से चोरी पर अंकुश लगाने के लिए आर्मर्ड केबल लगाने का निर्णय लिया गया है, जिससे केबल में किसी प्रकार का कोई कट न लग सके। इतना ही नहीं यदि किसी प्रकार के केबल को काटने का प्रयास किया गया तो उसमें फाल्ट होने की संभावना रहेगी।

विभागीय अधिकारियों व विजिलेंस टीम द्वारा अक्सर बिजली चोरी रोकने के लिए औचक रूप से चेकिग की जाती है, जिसमें कई बार देखा गया है कि उपभोक्ता या अन्य लोग मीटर से पहले केबल में कट लगाकर बिजली चोरी करते हैं। ऐसे में विभाग को आर्थिक रूप से काफी नुकसान होता है। मगर अब केबल में कट लगाना असंभव सा होगा। बिजली विभाग द्वारा मीटर को पोल पर लगाया जा रहा है। इतना ही नहीं पोल से मीटर के इनपुट तक आर्मर्ड केबल लगाने के निर्देश दिए है, जिससे केबल में किसी प्रकार का कोई कट न लग सके। प्लास्टिक के साथ लोहे की पत्ती से पैक होगा केबल

सम्भल : आर्मर्ड केबल को आसानी से नहीं काटा जा सकेगा। केबिल लोहे की पत्ती या तार के अंदर पैक होगा और उसके उपर प्लास्टिक या रबर की मोटी पर्त चढ़ी होगी। ऐसे में करंट की कोई संभावना नहीं रहेगी।

कनेक्शन के साथ ही लगे केबल

सम्भल: विभाग में अब कनेक्शन लेने के लिए आनलाइन आवेदन करना होगा। इस आवेदन के बाद विभाग द्वारा पूरी जांच प्रक्रिया को पूरा किया जाएगा और फिर उसके बाद उपभोक्ता के नाम से मीटर व केबल निर्धारित हो जाएगा। विभाग द्वारा पोल से मीटर तक का ही केबल दिया जाएगा।

बिजली चोरी रोकने के लिए विभाग की ओर से आर्मर्ड केबल दिया जा रहा है। इस केबल को काटना मुश्किल होगा और यदि इसमें कट लगाने का प्रयास किया तो केबिल में फाल्ट हो जाएगा। ऐसे मे बिजली चोरी का आसानी से पता लग सकेगा।

यशपाल सिंह, एसडीओ प्रथम सम्भल

Edited By: Jagran