सहारनपुर, जेएनएन। स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के अंतर्गत महानगर में बहुआयामी योजनाओं को फलीभूत करने की तैयारी शुरू हो चुकी है। ढमोला और पांवधोई के संगम स्थल का सौंदर्यीकरण करने के अलावा जेल चुंगी ब्रिज से देहरादून रोड को जोड़ते हुए नदी के किनारे सड़क बनाई जायेगी। ये सड़क मिनी बाइपास का काम करेगी। परियोजना पर 22 करोड़ से अधिक की राशि खर्च होगी।

महानगर के बीचोंबीच पांवधोई और ढमोला नदी बहती है। पांवधोई नदी देहरादून रोड पर एसएएम इंटर कालेज के पुल के निकट ढमोला नदी में मिल जाती है, यहां दोनों नदियों का संगम स्थल काफी विस्तृत होने के कारण बहकर आने वाली गंदगी जमा हो जाती है। नवंबर 2017 में निगम बोर्ड का गठन होने के बाद से ही नदियों को साफ-सुथरा करने के लिए दावे किए जाते रहे हैं। स्मार्ट सिटी में सहारनपुर के चयन के बाद यहां कई बड़ी योजनाएं बनाई गई। जुलाई के प्रथम सप्ताह में लखनऊ में हुई बैठक में नगर निगम और सिचाई विभाग द्वारा रिवर फ्रंट प्रोजेक्ट को रखा गया था।

राज्य स्तरीय तकनीकी समिति की प्रमुख सचिव नगर विकास दीपक कुमार की अध्यक्षता में लखनऊ में हुई बैठक में स्मार्ट सिटी परियोजना में कराए जाने वाले प्रस्तावों को दो दिन पूर्व स्वीकृति दी गई, इनमें ढमोला नदी पर रिवर फ्रंट डेंवलपमेंट और शहर के पुराने क्षेत्रों में सीवरेज सिस्टम संबंधी प्रस्ताव शामिल थे। बता दें कि देहरादून रोड के निकट पांवधोई नदी यहां डाउन स्ट्रीम पर ढमोला नदी में ही मिल जाती है। इसी नदी के किनारे सड़क बनाई जायेगी, यह जेल चुंगी ब्रिज से अंबाला-देहरादून मार्ग को लिक करने के लिए एक बाइपास के रूप में काम करेगी। परियोजना से लोगों को शहर में रिवर फ्रंट डेवलपमेंट के साथ-साथ बेहतर यातायात की सुविधा मिलेगी। परियोजना पर 22.43 करोड़ रुपये खर्च आने का अनुमान है।

-इनका कहना है

रिवर फ्रंट का प्रस्ताव गत माह नगर विकास विभाग लखनऊ को भेजा गया था। प्रस्ताव को स्वीकृति मिल गई है। ढमोला के किनारे सड़क बनाने के अलावा दोनों नदियों के संगम स्थल का सौन्दर्यीकरण भी कराया जायेगा।

-ज्ञानेंद्र सिंह, नगरायुक्त।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस