Move to Jagran APP

सगे तीन भाई-बहन का सुराग नहीं, अपहरण का मुकदमा

देहात कोतवाली क्षेत्र के गांव संतागढ़ से गायब चल रहे तीन सगे भाई-बहन का अभी तक कोई सुराग नहीं मिला है। बच्चों के परिजन उन्हें लगातार तलाश रहे हैं। पुलिस भी परिजनों का खूब सहयोग कर रही है लेकिन हैरत की बात यह है कि बच्चे कहा गए कुछ पता नहीं चल रहा है। पुलिस ने जो गुमशुदगी दर्ज की थी उसे अपहरण में तरमीम कर लिया है। अज्ञात के खिलाफ अपहरण का मुकदमा दर्ज किया गया है।

By JagranEdited By: Tue, 29 Mar 2022 10:29 PM (IST)
सगे तीन भाई-बहन का सुराग नहीं, अपहरण का मुकदमा
सगे तीन भाई-बहन का सुराग नहीं, अपहरण का मुकदमा

सहारनपुर, जेएनएन। देहात कोतवाली क्षेत्र के गांव संतागढ़ से गायब चल रहे तीन सगे भाई-बहन का अभी तक कोई सुराग नहीं मिला है। बच्चों के परिजन उन्हें लगातार तलाश रहे हैं। पुलिस भी परिजनों का खूब सहयोग कर रही है, लेकिन हैरत की बात यह है कि बच्चे कहा गए, कुछ पता नहीं चल रहा है। पुलिस ने जो गुमशुदगी दर्ज की थी उसे अपहरण में तरमीम कर लिया है। अज्ञात के खिलाफ अपहरण का मुकदमा दर्ज किया गया है।

गांव संतागढ़ निवासी जितेंद्र उर्फ लल्लू ने बताया कि 22 मार्च को उसकी 12 साल की बेटी जिया, आठ साल की बेटी दीपा और छह साल का बेटा जीत घर के बाहर खेल रहे थे। जब वह काफी देर तक घर के अंदर नहीं आए तो उनकी मां ने तीनों बच्चों की तलाश की। तीनों बच्चों का कहीं पर पता नहीं चला, जिसके बाद परिजनों ने बच्चों को पूरे गांव में तलाश किया। इसके अलावा रिश्तेदारी और अन्य दोस्तों को फोन करके बच्चों के बारे में जानकारी ली, लेकिन पता नहीं चला। बाद में परिजन देहात कोतवाली में पहुंचे और उन्होंने बच्चों के बारे में लिखित में सूचना दी। शुरुआत में पुलिस ने तीनों बच्चों की गुमशुदगी दर्ज की, लेकिन मंगलवार को गुमशुदगी को अपहरण में तरमीम कर लिया हैं। इसके अलावा देहात कोतवाली प्रभारी सुरेंद्र सिंह ने बताया कि बच्चों के बारे में चाइल्ड लाइन को भी सूचित कर दिया है। वहीं, आसपास के जिले मुजफ्फरनगर, शामली, बागपत, हरियाणा के यमुनानगर, पानीपत, करनाल, उत्तराखंड के रुड़की, देहरादून, हरिद्वार आदि जिलों की भी पुलिस को बच्चों के फोटो और अपहरण के मुकदमे की कापी भेज दी है।