जासं, प्रतापगढ़ : कोरोना का खौफ लोगों को परदेस जाने से रोक रहा है। घूमने या रोजगार के सिलसिले में महानगर जाने के लिए बुक कराए गए टिकट तेजी से रद कराए जा रहे हैं।

मंगलवार को भी रेलवे स्टेशन के आरक्षण काउंटर पर यात्रियों की लंबी लाइन देखी गई। सबने कैंसिलेशन के फार्म भर रखे थे। इनमें अधिकांश टिकट मुंबई, दिल्ली, अहमदाबाद, हैदराबाद, जालंधर, चंडीगढ़ और सूरत जैसे शहरों के थे। इनको रद कराकर सभी ने अपना पैसा वापस लिया। इधर टिकट बुक कराने वाले एक दिन में चार से पांच लोग ही आ रहे हैं। इस वजह से रिफंड करने को पैसा कम पड़ रहा है। मंगलवार को करीब डेढ़ लाख रुपये वापस करने पड़े। इस हालात से निपटने के लिए दस लाख रुपये तो डीआरएम कार्यालय से मांगकर काम चलाया गया।

इसी तरह साइबर कैफे से लिए गए टिकट भी निरस्त कराए जा रहे हैं। वहां टिकट के पैसे यात्री के खाते में जा रहे हैं। मुख्य आरक्षण पर्यवेक्षक रणवीर सिंह का कहना है कि लोग टिकट रद कराने को आ रहे हैं। हर दिन अलग-अलग तारीखों में बुक टिकट रद कर पैसे वापस किए जा रहे हैं। निरस्तीकरण का रोस्टर विभाग ने जारी किया है।

फिर होगी मारामारी

रेलवे ने 200 सवारी गाड़ियों का संचालन शुरू किया है। उनमें से प्रतापगढ़ से कोई नहीं है। एक दो गाड़ियां इधर से गुजर जरूर रही हैं, पर वह केवल चालक व गार्ड बदलने को रुकती हैं। बाद में जब ट्रेन संचालन सामान्य होगा तो रद कराने की तरह ही टिकट लेने को काउंटर पर मारामारी होगी।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस