पीलीभीत,जेएनएन: उदरहा गांव में लगे धान क्रय केंद्र का निरीक्षण करने पहुंचे एसडीएम और तहसीलदार के सामने किसानों की ठेकेदार से तीखी झड़प हुई। इसके साथ मारपीट की नौबत आ गई। अधिकारियों ने किसानों को बमुश्किल शांत कराया। किसानों ने ठेकेदार पर बारदाना के नाम पर हजारों रूपये लेने का आरोप लगाया है। धान की तौल न होने पर किसानों ने आत्महत्या की धमकी दी है।

घुंघचाई क्षेत्र के क्रय केंद्रों की व्यवस्था में कोई सुधार होने का नाम नहीं ले रहा है। सेंटर पर धान खरीद के लिए कई कई दिनों से इंतजार में पड़े किसानों का धान नहीं तौल पा रहा है। इसको लेकर किसान बेहद हताश और परेशान हो गए हैं। उदरहा क्रय केंद्र पर बिना क्रय केंद्र इंचार्ज और लेखपाल के तौल की जा रही है। ठेकेदार खरीद करा रहा है। किसान सर्द भरी रातों में जागकर धान के ढेरों की रखवाली कर रहे हैं। शुक्रवार को उपजिलाधिकारी राजेन्द्र प्रसाद और तहसीलदार विजय कुमार त्रिवेदी ने उदरहा क्रय केंद्र का निरीक्षण किया। इस दौरान वहां मौजूद किसान रंजीत सिंह और वरियाम सिंह ने धान की खरीद न करने की बात अधिकारियों से कही। उन्होंने बताया कि ठेकेदार ने उनसे हजारों रुपये बारदाना के नाम पर ले लिए हैं। घरों पर बारदाने में धान लगा है। फिर भी धान की खरीद नहीं की जा रही है। अगर धान की खरीद नहीं करनी है तो उनका रुपया वापस किया जाए। इस बात को लेकर दोनों किसानों और ठेकेदार के बीच अधिकारियों की मौजूदगी में तीखी झड़प हुई। मारपीट की किसान और ठेकेदार के बीच नौबत आ गई। दोनों अधिकारी काफी देर तक किसानों को समझाने का प्रयास करते रहे। मशक्कत के बाद किसान शांत हुए। क्रय केंद्र ठेकेदार लालू गुप्ता ने बताया कि दोनों किसानों के घर पर धान लगा है। उसे वहीं से खरीदने की बात कह रहे हैं। धान क्रय केंद्र पर आना चाहिए। इसके बाद ही तौल की जा सकेगी। उपजिलाधिकारी राजेंद्र प्रसाद ने बताया कि किसान घर से तौल कराने की बात कह रहे थे। क्रय केंद्रों पर धान लेकर आए सभी किसानों के धान की खरीद की जाएगी। मानक के तहत ही धान की खरीद होगी। फोटो 27 पीएनपीआर 4

एक महीने से लगातार सेंटर के चक्कर लगा रहा हूं। इसके बावजूद धान नहीं तौला गया है। परेशान होकर धान भरकर घर ले आया हूं। मजबूरन औने पौने दामों में बेचना पड़ेगा

धर्मपाल वर्मा

फोटो 27 पीएनपीआर 5

मेरा धान की कई दिनों से क्रय केंद्र पर ढेरी लगी है, लेकिन सेंटर पर कोई भी खरीद करने को तैयार नहीं है। आस पड़ोस के लोगों का धान तौला जा रहा है। सेंटर पर लेखपाल और इंचार्ज भी नहीं आते।

राजकुमार

----

फोटो 27 पीएनपीआर 6

करीब 20 दिनों से सेंटर पर धान की रखवाली कर रहा हूं। धान बिक्री करने के लिए बारदाना खरीद कर लाने के बाद ही धान तौले जाने की बात कही गई है। जब धान नहीं बिका तो बारदाना कहां से लाऊं।

सुनील कुमार

----

फोटो 27 पीएनपीआर 7

धान की कटाई करीब एक माह पहले कराई थी। जब से रोज धान लेकर क्रय केंद्र पर जाता हूं। रोजाना वापस कर दिया जाता है। खरीद के नाम पर रूपये मांगे जा रहे हैं। रुपये एक दूसरे से लेकर गेहूं बुवाई की है।

प्रेमचंद

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप