जागरण संवाददाता, नोएडा : अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर सेक्टर-123 स्थित डं¨पग ग्राउंड पर विरोध का सिलसिला जारी रहा। लोगों ने डं¨पग ग्राउंड के पास विरोध करते हुए मास्क लगाकर योग किया। इस दौरान भारी संख्या में प्रदर्शनकारी मौजूद रहे। इस दौरान कई लोगों ने अपने चेहरे पर प्रधानमंत्री मोदी का मास्क भी लगाया था और सांकेतिक आक्सीजन सिलेंडर लगाकर करीब एक घंटे योग किया गया। इसके बाद आक्रोशित महिलाओं ने पर्थला गोल चक्कर पर डं¨पग ग्राउंड के विरोध में रैली निकाली। इस दौरान महिलाएं सड़क पर लेट गई। इससे इस रास्ते जाम लग गया, जिसमें फंस कर लोगों के भारी परेशानी उठानी पड़ी। पुलिस ने बड़ी मशक्कत कर आक्रोशित लोगों को शांत कराया। लोगों ने प्रधानमंत्री मोदी को चैलेंज करते हुए कहा कि यहां हमारे साथ आकर योग करके दिखाएं।

पास की सोसायटी में रहने वाली बच्ची 12 वर्षीय कृतिका नकली ऑक्सीजन सि¨लडर और मास्क के साथ आई थी। कृतिका का कहना था कि इस तरह के डं¨पग ग्राउंड रिहायशी इलाकों के आसपास बनते रहे तो आने वाले दिनों में सांस लेने के लिए आक्सीजन सिलेंडर की जरूरत पड़ेगी। ये मास्क तो असली नहीं है लेकिन डं¨पग ग्राउंड बना तो ऐसा मास्क हर बच्चे को इस्तेमाल करना होगा। हम प्रधानमंत्री से अनुरोध करते हैं कि हमसे शुद्ध हवा में सांस लेने का अधिकार न छीने।

ये योगा नहीं, रोगा डे है : लोगों ने कहा कि प्रधानमंत्री फिटनेस चैलेंज स्वीकार करते हैं। हम चैलेंज देते हैं कि वह यहां आकर हमारे साथ योग करें। यहां खेलने के लिए तो कोई मैदान नहीं है, लेकिन डं¨पग ग्राउंड बनाया जा रहा है। हम योग कहां करेंगे। नोएडा प्राधिकरण मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आदेशों की अवहेलना कर रहा है। जब मुख्यमंत्री बोल चुके हैं कि आबादी से दो किलोमीटर दूर पर डं¨पग ग्राउंड बनाया जाए तो अब तक काम क्यों नहीं हुआ। यह योगा डे नहीं, रोगा डे है।

Posted By: Jagran