ग्रेटर नोएडा, जागरण संवाददाता। दादरी के सूरजपुर कोतवाली क्षेत्र स्थित देवला गांव के नाले में मिले अरुण के शव के मामले का पर्दाफाश पुलिस ने किया है। अरुण की हत्या उसके ही दोस्त आकाश ने की थी। सिगरेट के रुपये नहीं देने पर हत्या की घटना को अंजाम दिया गया।

आरोपित आकाश दादरी के नई बस्ती का रहने वाला था। अरुण की गला रेतकर हत्या करने के बाद शव को देवला गांव के नाले में फेंक दिया था। पुलिस ने आरोपित आकाश को कोर्ट में पेश किया। वहां से उसे जेल भेज दिया गया है।

विकास के खोखे पर जाकर पीता था सिगरेट

बादलपुर कोतवाली प्रभारी रविंद्र कुमार ने बताया कि आरोपित आकाश के भाई विकास का दादरी ओवर ब्रिज के नीचे पान का खोखा है। अरुण अक्सर विकास के खोखे पर जाकर सिगरेट पीता था और रुपये नहीं देता था। 20 नवंबर घटना वाली रात भी दस बजे के करीब अरुण ने सिगरेट ली और रुपये नहीं दिए।

इस बात को लेकर दोनों में कहासुनी हुई। मामले में बीच-बचाव विकास के भाई व अरुण के दोस्त आकाश ने किया। अरुण ने कहा कि वह विकास को जान से मार देगा। यह सुनकर आकाश को गुस्सा आ गया। उसने पहले अरुण को साथ बैठा कर बियर पिलाई। कार में बियर पीने के बाद आरोपित आकाश ने अंडा की ठेली से चाकू लेकर अरुण का गला रेत कर उसकी हत्या कर दी। शव को देवला गांव के नाले में फेंक दिया। शव नाले में फेंकने के बाद आरोपित ने सिर पर पत्थर भी मारा था।

यह है मामला

जारचा के खटाना मिलक गांव के रहने वाले राजपाल सिंह का 22 वर्षीय बेटा अरुण कुमार जीटी रोड स्थित हीरो मोटर्स फैक्ट्री में अनुबंध पर नौकरी करता था। बीते 20 नवंबर को अरुण फैक्ट्री से ड्यूटी समाप्त करने के बाद दुजाना गांव में अपनी बुआ के घर गया था। वहां से वह शाम लगभग साढ़े आठ बजे अपने घर के लिए लौटा था, लेकिन घर नहीं पहुंचा। इसके बाद स्वजन ने उसकी तलाश शुरू कर दी थी। काफी प्रयासों के बाद भी अरुण का कोई सुराग नहीं मिला। बादलपुर कोतवाली में मामले की गुमशुदगी दर्ज कराई गई थी।

Edited By: Abhishek Tiwari

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट