ग्रेटर नोएडा, जागरण संवाददाता। जैसे-जैसे उत्तर प्रदेश चुनाव के पहले चरण के मतदान की तारीख नजदीक आ रही है, उसी तेजी से राजनीति समीकरणों को बदलने की भी पुरजोर कोशिश में संगठन व सियासी दल जुट गए हैं। इसी कड़ि में रविवार को संयुक्त किसान मोर्चा के योगेंद्र यादव व हन्नान मोल्ला ने ग्रेटर नोएडा में किसानों से भारतीय जनता पार्टी को वोट की चोट देने की अपील कर दी। आरोप लगाए कि किसान आंदोलन की समाप्ति के लिए केंद्र सरकार ने लिखित में आश्वासन दिया था, लेकिन अब वादों से मुंह मोड़ लिया। उनका कहना है कि किसान मोर्चा किसी अन्य राजनैतिक दल को वोट देने की अपील नहीं कर रहा है, लेकिन किसानों के साथ भाजपा द्वारा किए गए वादा खिलाफी का जवाब अब वोट की चोट से दिया जाएगा।

रविवार शाम करीब साढ़े पांच बजे किसान नेता योगेंद्र यादव, हन्नान मोल्ला, जय किसान आंदोलन के उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष पुष्पेंद्र कुमार व जय किसान आंदोलन के मनीष कुमार ने मीडिया से बातचीत की। हन्नान मोल्ला ने कहा कि चुनाव में वोट की चोट देकर ही भाजपा को जवाब दिया जा सकता है।

भाजपा की केंद्र सरकार ने नौ दिसंबर को लिखित में आश्वासन दिया था, जिसके बाद आंदोलन समाप्त किया गया। एक महीने तक का इंतजार किया गया, लेकिन केंद्र सरकार ने मांगें पूरी नहीं की। 15 जनवरी को बैठक कर संयुक्त किसान मोर्चा ने ये फैसला लिया कि अब भाजपा को वोट न देकर जवाब देने का समय आ गया है।

गौरतलब है कि तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली-एनसीआर के बार्डर पर बैठे किसान संगठनों ने एक साल आंदोलन स्थगित करने के साथ नए मांगें भी रख दी थीं। संयुक्त किसान मोर्चा फिलहाल अपनी नई मांंगों को लेकर केंद्र सरकार पर हमलावर है और पंजाब, यूपी और उत्तराखंड विधानसभा चुनाव में भाजपा को सबक सिखाने की चेतावनी दे रहा है।

Edited By: Jp Yadav