नोएडा, जागरण डिजिटल डेस्क। Who is Pankhuri Pathak: पिछले कुछ सालों के दौरान सोशल मीडिया पर राजनीतिक दलों का प्रचार अधिक तेजी से बढ़ा है। आलम यह है कि राजनीतिक दल और उनके नेता सोशल मीडिया पर अपनी छवि चमकाने के लिए अधिक सक्रिय रहते हैं। 

इस बीच ताजा राजनीतिक घटनाक्रम में नोएडा से यूपी विधानसभा चुनाव 2022 में कांग्रेस प्रत्याशी रहीं पंखुड़ी पाठक को उत्तर प्रदेश कांग्रेस सोशल मीडिया विभाग में नई जिम्मेदारी दी गई है। इसी कड़ी में वह पहले प्रदेश उपाध्यक्ष थीं, अब उन्हें अध्यक्ष बनाया गया है। बताया जा रहा है कि यह सब प्रियंका गांधी से मंत्रणा के बाद हुआ है। आइये जानते हैं कि कौन हैं पंखुड़ी पाठक जिन पर कांग्रेस पार्टी ने इतना बड़ा दांव खेला है।

अखिलेश यादव और डिंपल यादव की भी करीबी रह चुके हैं पंखुड़ी

पंखुड़ी पाठक ने अपनी छात्र राजनीतिक की शुरुआत दिल्ली विश्वविद्यालय से की, लेकिन कोई खास सफलता नहीं मिली। बावजूद पंखुडी पाठक की छवि से अखिलेश यादव और डिंपल यादव दोनों प्रभावित हुए। पंखुड़ी ने वर्ष 2010 में समाजवादी पार्टी दामन थामा लिया।

अखिलेश यादव की भी रहीं करीबीं

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2012 से पहले अध्यक्ष अखिलेश यादव की क्रांति रथ यात्रा में भी पंखुड़ी पाठक हिस्सा लिया था। इतना ही नहीं पंखुड़ी पाठक के बात करने अंदाज, छवि और उनकी शैली से अखिलेश यादव ही नहीं बल्कि उनकी पत्नी डिंपल यादव भी काफी प्रभावित रहीं।

डीयू से की छात्र राजनीति की शुरुआत

वर्ष 1992 में दिल्ली में जन्मीं पंखुड़ी पाठक के पिता का नाम जेसी पाठक और माता का नाम आरती पाठक है। दोनों ही पेशे से डॉक्टर हैं और दिल्ली में ही प्राइवेट प्रैक्टिस करते हैं। पंखुड़ी का छोटा भाई चिराग पाठक है।

हंसराज कॉलेज में जीता था सह सचिव का चुनाव

वहीं, पंखुड़ी पाठक ने दिल्ली विश्वविद्यालय के नामी हंसराज कॉलेज से कानून की पढ़ाई की है। छात्र राजनीति में वह साल 2010 चुनाव जीतकर वह सह सचिव भी रहीं। पंखुड़ी ने साल 2010 में समाजवादी पार्टी ज्वॉइन की और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव की क्रांति रथ यात्रा में भी हिस्सा लिया था।  

पूर्व सपा नेता से की शादी

बतौर समाजवादी पार्टी की प्रवक्ता पंखुडी पाठक लगातार विवादों में रहीं। टेलीविजन न्यूज चैनलों पर भी वह अपने प्रतिद्वंद्वी नेताओं से भिड़ंत को लेकर चर्चा में रहती थी। पंखुड़ी ने दिसंबर 2019 में सपा नेता रहे अनिल यादव से शादी की। अनिल यादव की ये दूसरी शादी है। उनका पहली पत्नी से तलाक हो चुका है। दोनों अब एक बच्चे के माता-पिता हैं।

पति-पत्नी थे सपा में दोनों अब है कांग्रेस में

पंखुड़ी पाठक ने काफी पहले विवादों के चलते समाजवादी पार्टी को छोड़ दिया था और कुछ समय बाद कांग्रेस की सदस्यता ले ली थी। वहीं, उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 से कुछ महीने पहले पति अनिल यादव ने भी समाजवादी पार्टी छोड़कर कांग्रेस ज्वाइन कर ली थी। 

कांग्रेस पार्टी से लड़ चुकी हैं नोएडा विधानसभा चुनाव

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 कांग्रेस पार्टी ने गौतमबुद्ध नगर जिले की नोएडा विधानसभा सीट से पंखुड़ी पाठक को अपना उम्मीदवार बनाया था, हालांकि उसमें उन्हें हार का सामना करना पड़ा था। इन चुनावों में उन्हें पार्टी के स्टार प्रचारकों में शामिल करने के साथ ही प्रियंका गांधी से लेकर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल तक उनके लिए वोट मांगने नोएडा आए थे। यह अलग बात है कि वह चुनाव हार गईं, लेकिन उनकी छवि और शालीनता की तारीफ विरोधियों ने भी की।

बता दें कि कांग्रेस राष्ट्रीय महासचिव केसी वेणूगोपाल ने पत्र जारी कर पंखुड़ी पाठक को उत्तर प्रदेश कांग्रेस सोशल मीडिया विभाग में जिम्मेदारी सौंपी है। वहीं, प्रदेश उपाध्यक्ष की जिम्मेदारी दिनेश वारसी, शुभम शुक्ला और शालिनी सिंह को दी गई है।

वहीं, सोशल मीडिया अध्यक्ष की जिम्मेदारी मिलने पर पंखुड़ी पाठक ने कांग्रेस शीर्ष नेतृत्व का आभार व्यक्त करते हुए राहुल गांधी, प्रियंका गांधी वाड्रा, जयराम रमेश का धन्यवाद करते हुए कहा कि उन्हें जो जिम्मेदारी दी गई है, वह उसका पूरी निष्ठा से निर्वहन करने के साथ संगठन की उम्मीदों पर खरा उतरने का पूरा प्रयास करेंगी। प्रदेश सोशल मीडिया की अध्यक्ष चुने जाने पर उन्हें तमाम पदाधिकारी व कार्यकर्ताओं ने बधाई दी है।

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (AICC) ने अपनी तेजतर्रार और युवा नेता पंखुड़ी पाठक को उत्तर प्रदेश के लिए आज एक अहम जिम्मेदारी सौंपी है। पंखुड़ी ने इसके लिए कांग्रेस आलाकमान का धन्यवाद किया है। पंखुड़ी पाठक को प्रियंका गांधी का करीबी माना जाता है। ऐसे में कहा जा रहा है कि प्रियंका गांधी की सहमति के बाद ही उन्हें यह जिम्मेदारी दी गई है। 

Edited By: Jp Yadav