भोपा (मुजफ्फरनगर) : यूसुफपुर गांव के सैकड़ों लोगों ने थाने पर गोकशी के आरोपित को निर्दोष बता उसे छुड़ाने की मांग को लेकर धरना-प्रदर्शन किया। पुलिस ने लाठियां फटकार कर ग्रामीणों को भगाया। थाने की सीढि़यों से गिरने से महिला घायल हो गई।

यूसुफपुर गांव निवासी अल्लाह मेहर, साजिद, इरशाद, गुलजार, रेशमा, वसीला, हसीना, इकराम, यासीन, हसन व प्रवेश आदि सैकड़ों महिला-पुरुषों ने शनिवार सुबह थाने पर हंगामा कर बताया कि उनके गांव का मेहरबान बीते शुक्रवार शाम एक समझौते में थाने आया था, जहां पुलिस ने उसे गोकशी का आरोपी बताते हुए हिरासत में ले लिया। ग्रामीण आरोपी को निर्दोष बताते हुए थाने से छोड़ने की मांग करने लगे। हंगामा देख पुलिस ने लाठी फटकार कर ग्रामीणों को थाने से भगाया। इसी दौरान थाने की सीढि़यों से गिरने से विधवा अमतुल घायल हो गई। एसएसआइ लेखराज ¨सह ने बताया कि करीब डेढ़ महीना पहले किशनपुर गांव के जंगल में गौवंश के कटान की जानकारी पर पुलिस ने छापेमारी की थी, जिसमें आरोपी पुलिस को देखते ही भाग गए थे। पुलिस ने मौके से भारी मात्रा में गौवंश का मांस, खाल, कटान के उपकरण व बाइक बरामद किया था। पुलिस जांच में मेहराज, किशनपुर निवासी हामिद, यूसुफपुर निवासी भूरा व मेहरबान और रतनपुरी निवासी युवक का नाम प्रकाश में आया है। पुलिस ने आरोपित मेहरबान को न्यायालय में पेश किया, जहां से उसे जेल भेजा गया है।

Posted By: Jagran