Move to Jagran APP

मुजफ्फरनगर में मुस्लिम छात्र की पिटाई; वीडियो बनाने वाला लड़का बोला ‘ मेरा वीडियो गलत अर्थ निकालकर किया वायरल'

Muzaffarnagar News In Hindi यूपी के एक स्कूल में शिक्षिका द्वारा स्टूडेंट्स में भेदभाव करते हुए उन्हें पिटवाने का मामला सामने आया था। जिसके बाद पुलिस ने भी संज्ञान लिया था। अब वीडियो बनाने वाला लड़का सामने आया है और उसने पूरी जानकारी दी है। लड़के का दावा है वीडियो में जो कहा गया है उसका गलत मतलब निकाला जा रहा है।

By Jagran NewsEdited By: Abhishek SaxenaPublished: Sat, 26 Aug 2023 10:22 AM (IST)Updated: Sat, 26 Aug 2023 12:27 PM (IST)
Muzaffarnagar News: ‘मेरा वीडियो गलत अर्थ निकाल प्रसारित किया गया’

मुजफ्फरनगर, जागरण संवाददाता। गांव खुब्बापुर में मुस्लिम छात्र की पिटाई कराने के मामले में वीडियो बनाने वाले लड़के का बयान सामने आया है। उसमें वह स्पष्ट कह रहा है कि शिक्षिका ने धर्म को लेकर कोई टिप्पणी नहीं की, बल्कि यह कहा था कि मुस्लिम महिलाएं अपने मायके चली जाती हैं और बच्चों की पढ़ाई पर ध्यान नहीं देती। इस वीडियो को गलत अर्थ निकालते हुए इंटरनेट मीडिया पर प्रसारित किया गया है।

सोशल मीडियापर वायरल हुआ था वीडियो

मंसूरपुर थाना क्षेत्र के गांव खुब्बापुर के एक प्राइवेट स्कूल का वीडियो शुक्रवार को इंटरनेट मीडिया पर प्रसारित हुआ था। उसमें शिक्षिका सामने कुर्सी पर बैठी है और एक छात्र को अन्य छात्रों से थप्पड़ लगवाए जा रहे हैं। वीडियो में शिक्षिका द्वारा मुस्लिम बच्चों के शैक्षिक स्तर को लेकर बात कही गई है, इसी को आपत्तिजनक बताते हुए इंटरनेट मीडिया पर वीडियो प्रसारित कर दिया गया। कहा गया कि शिक्षिका ने धर्म को लेकर आपत्तिजनक टिप्पणी की है।

ये भी पढ़ें टीचर के कहने पर क्लास में बच्चे के मुंह पर बच्चों ने जड़े तमाचे; VIDEO वायरल- यूपी पुलिस ने लिया ये संज्ञान

गांव का ही है वीडियो बनाने वाला लड़का

जबकि वीडियो बनाने वाला लड़का भी खुब्बापुर का ही रहने वाला है। लड़के से भी पुलिस ने पूछताछ की। उसके बयान का वीडियो भी इंटरनेट मीडिया पर प्रसारित हुआ है। उसमें वो कह रहा है कि वह स्कूल में किसी काम से गया था, तभी उसके चचेरे भाई को दूसरे छात्र थप्पड़ मार रहे थे, लेकिन शिक्षिका कह रही थी कि मुस्लिम महिलाएं अपने मायके चली जाती हैं, बच्चों का ध्यान नहीं रखती, जिस कारण बच्चों की पढ़ाई प्रभावित होती है। लड़के का कहना है कि उसकी वीडियो का गलत अर्थ निकालते हुए इंटरनेट मीडिया पर प्रसारित किया गया है।

डीएम बोले मुकदमा हुआ दर्ज

डीएम अरविंद मल्लप्पा बंगाली ने बताया, पहले स्वजन कोई कार्रवाई नहीं चाहते थे, लेकिन मामला इंटरनेट मीडिया पर प्रसारित होने पर उनकी ओर से मंसूरपुर थाने में तहरीर दी गई है। जिसके चलते मुकदमा दर्ज किया गया है। बाल कल्याण समिति की टीम को छात्र के घर काउंसलिंग के लिए भेजा गया है। इसके साथ ही बेसिक शिक्षा अधिकारी को मामले की जांच कर रिपोर्ट देने के आदेश दिए हैं। प्रशासन ने इस मामले में पीड़ित समेत किसी भी छात्र का नाम इंटरनेट मीडिया पर वायरल न करने की अपील की है। ऐसा करने पर करवाई की चेतावनी दी गई है।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.