Move to Jagran APP

क्या सच हैं विनेश फोगाट के आरोप? फेडरेशन अध्यक्ष के सपोर्ट में उतरीं रेसलर दिव्या काकरान

बुधवार देर रात को अंतरराष्ट्रीय एवं अर्जुन अवार्डी पहलवान दिव्या काकरान ने एक साथ तीन वीडियो इंटरनेट मीडिया पर प्रसारित की है। जिसमें भारतीय कुश्ती संघ अध्यक्ष के समर्थन में अपना पक्ष रखा है। कहा कि ब्रजभूषण सिंह शरण ने फेडरेशन समेत कुश्ती की हालत बदली है।

By Jagran NewsEdited By: Nitesh SrivastavaPublished: Thu, 19 Jan 2023 09:40 AM (IST)Updated: Thu, 19 Jan 2023 09:40 AM (IST)
भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष के समर्थन में उतरीं दिव्या काकरान। जागरण

खतौली, जागरण संवाददाता। भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष ब्रजभूषण सिंह शरण पर हरियाणा की प्रसिद्ध पहलवान विनेश फोगाट ने शोषण आदि के आराेप लगाए हैं। बकायदा, मामले को लेकर दिल्ली में धरना भी दिया गया है। बुधवार देर रात को अंतरराष्ट्रीय एवं अर्जुन अवार्डी पहलवान दिव्या काकरान ने एक साथ तीन वीडियो इंटरनेट मीडिया पर प्रसारित की है। जिसमें भारतीय कुश्ती संघ अध्यक्ष के समर्थन में अपना पक्ष रखा है। कहा, कि ब्रजभूषण सिंह शरण ने फेडरेशन समेत कुश्ती की हालत बदली है। आज छोटी उम्र के पहलवान राष्ट्रीय स्तर प्रतियोगिता में प्रतिभाग कर रहे हैं, जबकि पूर्व में ऐसा नहीं था।

मुजफ्फरनगर के मंसूरपुर क्षेत्र के गांव पुरबालियान निवासी अंतरराष्ट्रीय एवं अर्जुन अवार्डी पहलवान दिव्या काकरान ने प्रसारित वीडियो में कहा कि भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष ब्रजभूषण सिंह शरण पर कई तरह के गलत आरोप लगाए जा रहे हैं। उनको लेकर कोई प्रतिक्रिया नहीं कर रहा है तो वह अन्य अारोप ढूंढकर लाए जा रहे हैं। वह 14 वर्ष उम्र करीब वर्ष 2013 से फेडरेशन से जुड़ीं है, अब 2023 आ चुका है।

पिछले दस वर्ष में उनके या अन्य किसी लड़की के साथ कोई र्दुव्यावहार नहीं किया गया है, जो अन्य राज्य हरियाणा आदि से खिलाड़ी आते हैं, ब्रजभूषण सिंह उनका साथ अधिक देते हैं, ताकि उनके साथ भेदभाव नहीं हो पाए। कई बार वह ट्रायल दो बार कराते है। ब्रजभूषण सिंह शरण की प्रधानमंत्री मोदी ने भी तारीफ की है। कहा कि पहली बार मंगौलिया कुश्ती लड़ने गई थी तो वहां किट और खाना अच्छा नहीं मिला था। वहां पर विरोध करने पर बताया गया, कि फेडरेशन ने पैसा नहीं दिया है।

दिव्या कहती है, कि जब से टाटा मोटर्स फेडरेशन के साथ जुड़ी है। ब्रजभूषण सिंह शरण इस कंपनी के अलावा अन्य से पैसा एकत्र कर खिलाड़ियों के हित में किट समेत संसाधन जुटाने का काम कर रहे हैं। वह आगे कहती हैं, कि आज जो लोग धरने पर बैठे हैं। वह दो माह पूर्व ट्वीट, साक्षात्कार में बोल रहे थे, कि जब से ब्रजभूषण आए है हमारी कुश्ती ठीक हुई है। क्योंकि वह ऊपर तक बात करते है।

वह खिलाड़ियों के साथ भेदभाव नहीं होता है। पहले 19 वर्ष की आयु में राष्ट्रीय कैंप होते थे, लेकिन आज बच्चा-बच्चा राष्ट्रीय स्तर पर तैयार होते हैं। पहले विदेशी धरती पर खिलाड़ी के साथ उनके स्वजन नहीं जाते थे, लेकिन ब्रजभूषण सिंह शरण ने व्यवस्था से ऊपर उठकर खिलाड़ियों के साथ उनके स्वजन को भेजना आरंभ कराया है। वह व्यवस्थाओं से ऊपर पहुंचकर कुश्ती को बढ़ावा देते हैं।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.