Move to Jagran APP

सपा विधायक कमाल अख्तर पर बिगड़े सीओ, बोले- तुरंत पुलिस लाइन से बाहर हो जाएं, यह मिलने का समय नहीं है

Samajwadi Party MLA Kamal Akhtar जुमे की नमाज के बाद प्रदर्शन करने वालों की गिरफ्तारी के बाद सपा विधायक कमाल अख्तर और पार्टी के अन्य नेता पैरवी करने के लिए पुलिस लाइन पहुंच गए। वहां सीओ महेश गौतम से विधायक और नेताओं की कहासुनी और नोकझोंक हो गई।

By Samanvay PandeyEdited By: Published: Sun, 12 Jun 2022 02:39 PM (IST)Updated: Sun, 12 Jun 2022 02:39 PM (IST)
SP MLA Kamal Akhtar : समाजवादी पार्टी के विधायक कमाल अख्तर अपने समर्थकों के साथ पुलिस लाइन पहुंच गए।

मुरादाबाद, जेएनएन। Samajwadi Party MLA Kamal Akhtar : जुमे की नमाज के बाद प्रदर्शन करने वालों की गिरफ्तारी के बाद सपा विधायक कमाल अख्तर और पार्टी के अन्य नेता पैरवी करने के लिए पुलिस लाइन पहुंच गए। वहां सीओ महेश गौतम से विधायक और नेताओं की कहासुनी और नोकझोंक हो गई। सीओ ने विधायक से यहां तक कह दिया कि ‘तुरंत पुलिस लाइन से बाहर हो जाएं, वरना बिठाने की और जगह भी हैं हमारे पास।’ इसके बाद विधायक और नेता चुपचाप गाड़ी में बैठकर चले गए।

जुमे की नमाज के बाद प्रदर्शन करने के आरोपितों की गिरफ्तारी को लेकर पुलिस ने गोपनीयता बरती। थाने के गेट पर ही कड़ा पहरा था। एक दारोगा तो मीडिया कर्मियों से भिड़ गए। सीओ के पहुंचने पर किसी तरह मामला शांत हुआ। कागजी कार्रवाई पूरी होने के बाद 21 अभियुक्तों को पुलिस मेडिकल कराने के लिए जिला अस्पताल ला रही थी। इस दौरान पता लगा कि समाजवादी पार्टी के महानगर अध्यक्ष शाने अली शानू की अगुवाई में कार्यकर्ता जिला अस्पताल में जुट रहे हैं।

पुलिस ने इसके बाद रणनीति बदल दी। अभियुक्तों को बंदी वाहन से पाकबड़ा ले जाकर मेडिकल कराकर पुलिस लाइन लाया गया। पुलिस लाइन में समाजवादी पार्टी के कांठ से विधायक कमाल अख्तर अपने समर्थकों के साथ पुलिस लाइन पहुंच गए। उन्होंने वहां सीओ कोतवाली महेश गौतम से एसएसपी और डीएम से मुलाकात के लिए कहा।

सीओ महेश गौतम ने कहा कि यह मिलने का  समय नहीं है। तुरंत पुलिस लाइन से बाहर चले जाएं, वरना हमारे पास बिठाने के लिए और भी जगह हैं। इस बात पर दोनों के बीच बहस हुई। बाद में सीओ ने विधायक को समर्थकों के साथ बाहर जाने के लिए कह दिया। इसे लेकर दोनों के बीच नोकझोंक हो गई। इस दौरान दो समर्थकों को पुलिस कर्मियों ने पकड़ लिया। बात बढ़ने पर विधायक विधायक पुलिस लाइन से चले आए। बाद में पकड़े गए समर्थकों भी छोड़ दिया गया।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.