मुरादाबाद, जेएनएन। Moradabads Govind Nagar Foot Overbridge : चंद लोगों की जिद से गोविंद नगर के हजारों लोगों को प्रतिदिन जान हथेली पर रखकर शहर आना जाना पड़ रहा है। जबकि रेल प्रशासन गोविंद नगर वासियों के लिए फुट ओवर ब्रिज बना चुका है, चहारदीवारी के निर्माण नहीं होने देने से फुट ओवर ब्रिज आम लोगों के लिए खोला नहीं जा सकता है। महानगर की बड़ी आबादी गोविंद नगर में रहती है। यहां रहने वाले लोगों को प्रतिदिन रेललाइन पाकर शहर आना जाना पड़ता है। अभी तक रेललाइन पार करते समय 52 लोगों की ट्रेन से कट कर मौत हो चुकी है।

स्थानीय लोगों की लम्बी लड़ाई के बाद जिला प्रशासन के हस्तक्षेप के बाद नगर निगम फुट ओवर ब्रिज के निर्माण के लिए वर्ष 2018 में साढ़े करोड़ रुपये रेलवे को दिए थे। जिला प्रशासन व रेल प्रशासन के बीच करार हुआ था कि फुट ओवर ब्रिज बनाने साथ ही लाइन के दोनों ओर चहारदीवारी का निर्माण पूरा करना पड़ेगा, तभी फुट ओवर ब्रिज आम जनता के लिए खोला जाएगा। बिना चहारदीवारी के फुट ओवर ब्रिज को चालू कर दिया तो उसके बाद भी लोग रेललाइन पार कर आना-जाना करते रहेंगे। रेल प्रशासन ने करार अनुसार गोविंद नगर क्षेत्र में चहारदीवारी बनाने का काम इस मार्च से शुरू किया था।

स्थानीय लोगों ने विरोध किया और कहा कि कि लोगों को आने जाने का रास्ता छोड़कर रेलवे चहारदीवारी का निर्माण कराए। जिला प्रशासन के हस्तक्षेप के बाद रेलवे रास्ता छोड़कर चहारदीवारी का निर्माण शुरू कर दिया। लेकिन कुछ लोगों ने अपने स्वार्थ के लिए चहारदीवारी का निर्माण नहीं करने दे रहे हैं। रेल प्रशासन ने जिला प्रशासन से चहारदीवारी के निर्माण के लिए कई बार गुहार कर चुके हैं, कई सहायता नहीं मिलने से चहारदीवारी का निर्माण कार्य रूका हुआ है।गोविंद नगर के हजारों को लोगों को रेललाइन पार कर बाजार, आफिस, कालेज व स्कूल आना जाना पड़ रहा है।प्रवर मंडल अधीक्षण अभियंता (सी) नीरज कुमार ने बताया कि गोविंद नगर फुट ओवर ब्रिज बनकर तैयार है, चहारदीवारी का निर्माण नहीं होने देने के फुट ओवर ब्रिज को चालू नहीं किया जा रहा है।

स्थानीय निवासी विनीता वर्मा का कहना है कि  फुट ओवर ब्रिज चालू नहीं होने से लोगों को जान हथेली पर रखकर प्रतिदिन लाइन पार कर शहर आना जाना पड़ता है। ब्रिज को चालू करने में जो भी समस्या आ रही है, जिला प्रशासन समस्या का शीघ्र समाधान करे और फुट ओवर ब्रिज को चालू कराए।सुनीता ने बताया कि लंबी लड़ाई के बाद गोविंद नगर फुट ओवर ब्रिज बनकर तैयार हो गया है। चालू नहीं होने से बच्चों को स्कूल लाइनपार कर जाना पड़ता है। जिससे ट्रेन की चपेट में आने का खतरा बना रहता है। विरोध करने वाले खिलाफ कार्रवाई करे और आम लोगों के लिए ब्रिज को शीघ्र चालू कराए।

Edited By: Samanvay Pandey