मुरादाबाद, जेएनएन। Moradabad Juma Namaz : भाजपा की पूर्व प्रवक्ता नुपुर शर्मा के मुस्लिम धर्मगुरु के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करने के बाद से यूपी में मुस्लिम समाज के लोग उनकी गिरफ्तारी की मांग को लेकर सड़कों पर उतर आए हैं। पिछले शुक्रवार यानी तीन जून को जुमे की नमाज के दिन कानपुर में बड़ा बवाल हुआ था। इसको लेकिन आज जुमे की नमाज को लेकर प्रदेश भर में पुलिस प्रशासन अलर्ट था। 

मुरादाबाद मंडल के तीन जिलों अमरोहा, ंऔर रामपुर में शांतिपूर्ण तरीके से जुमे की नमाज अदा की गई। लेकिन, मुरादाबाद में मुस्लिम समाज के लोग सड़कों पर उतर आए। कोई हिंसात्मक घटना तो नहीं हुई लेकिन हाथों में Arrest Nupur Sharma के बैनर लेकर लोगों ने खूब नारेबाजी की।

समाजवादी पार्टी के सांसद डॉ. एसटी हसन के घर के बाहर भी समाज के लोग एकत्र हो गए और नारेबाजी की। नुपुर शर्मा के खिलाफ पोस्टर लहराए। हालांकि अलर्ट को लेकर सुबह से ही पुलिस प्रशासन मुस्तैद था। मुरादाबाद में जामा मस्जिद के पास और अन्य संदिग्ध जगहों पर पुलिस बल तैनात रहा।

 जुमे की नमाज के बाद जामा मस्जिद चौराहे से फैजगंज पुलिस चौकी तक जुलूस निकाला। इस दौरान मेरे नबी की शान, बच्चा बच्चा है कुर्बान,नुपुर शर्मा को फांसी दो के नारे लगाए गए। तालियां बजाते हुए जामा मस्जिद चौराहे से फैजगंज पुलिस चौकी तक बड़ी संख्या में युवा पहुंचे,वहीं चौकी के पास मौजूद एडीएम सिटी और एसपी सिटी ने युवाओं को रोक लिया। इस दौरान अफसरों ने युवाओं को समझाकर वापस किया। लगभग डेढ़ घंटे तक जामा मस्जिद के आस-पास घूमकर नारेबाजी की गई। इस दौरान इंद्रा चौक रोड पर पुलिस लाठियां पटककर लोगों को दौड़ाया।

जिलाधिकारी शैलेन्द्र कुमार सिंह,एसएसपी हेमंत कुटियाल लगातार संवेदनशील क्षेत्रों का भ्रमण करते रहे। नारेबाजी की सूचना डीआइजी शलभ माथुर भी सड़क पर उतरे और दस संराय और मझोला थाना क्षेत्र का निरीक्षण कर पुलिस से शांति व्यवस्था कायम करने के निर्देश दिए।हजरत मुहम्मद साहब की शान में गुस्ताखी के प्रकरण को लेकर इंटरनेट मीडिया के संदेश ने पुलिस की नींद उड़ा दी थी। शहर के सभी चौराहों और मस्जिदों के पास सुरक्षा के कड़े इंतजाम भी कर दिए गए थे। जामा मस्जिद के चारो तरफ सुरक्षा पुलिस ने सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम किए थे। सुबह से एडीएम सिटी आलोक कुमार वर्मा और एसपी सिटी अखिलेश भदौरिया स्वयं पुलिस बल के साथ पूरे क्षेत्र के निगरानी कर रहे थे।

शुक्रवार को दोपहर करीब एक बजकर 36 मिनट पर नमाजियों का हुजूम जामा मस्जिद निकला। इस दौरान चौराहे पर आते ही कुछ युवकों ने नारेबाजी करना शुरू कर दिया।यह देखते हुए पुलिस अफसर चौकन्ना हो गए,और चौराहे पर घेरा बनाकर खड़े हो गए। करीब 45 मिनट तक चौराहे पर धार्मिक नारेबाजी करते हुए पूर्व भाजपा प्रवक्ता को फांसी दो की मांग की गई। हालांकि इस नारेबाजी कर रहे लोगों में कोई नेता या सामाजिक संगठन का सदस्य शामिल नहीं थे। अधिकतर लोग युवा थे। इस दौरान अफसरों ने समझाने का प्रयास किया,लेकिन कोई नहीं माना। कुछ ही देर में लोगों की भीड़ जीआइसी चौराहे पर नारेबाजी करती हुई सांसद डा. एसटी हसन के अस्पताल पहुंचती तो पुलिस अधिकारी दौड़ते हुए पहुंचे। यहां पर फैजगंज पुलिस चौकी के पास सभी को रोक लिया गया। चौकी के बाहर नारेबाजी शुरू हो गई। यहां भी आधे घंटे तक तक नारेबाजी होती रही। इस दौरान एसपी सिटी लाउड स्पीकर से लोगों को समझाने का प्रयास किया। अफसरों ने सभी से शांतिपूर्वक घर जाने की अपील की। काफी देर की मशक्कत के बाद युवा माने,और अपने घरों को वापस लौटे।

संभल में नमाज खत्म, हजारों की संख्या में शांतिपूर्ण तरीके से जामा मस्जिद से निकले नमाजी : संभल की जामा मस्जिद में शुक्रवार की दोपहर 1:52 पर जुमा की नमाज अदा करके हजारों की संख्या में नमाजी बाहर निकले। जामा मस्जिद के गेट के साथ ही चारों तरफ सैकड़ों की संख्या में पुलिस फोर्स की तैनाती रही। नमाजियों के निकलते ही पुलिस ने सक्रियता दिखाई। बाहर निकले नमाजियों ने किसी भी तरह का ना कोई प्रदर्शन किया ना ही नारेबाजी की।

शांति के वह अलग-अलग रास्तों से अपने घरों की ओर रवाना हो गए। जामा मस्जिद के पास पिछले डेढ़ घंटे से जिला अधिकारी मनीष बंसल व एसपी चक्रेश मिश्रा ने फोर्स के साथ खुद ही मोर्चा संभाला। शहर के अंदर मुख्य बाजार मोहल्ला कोट के अलावा कोट गर्वी। सरथल, दीपा सराय, मियां सराय, सराय तरीन आदि इलाकों में भी फोर्स की पूरी तैनाती रही।

अमरोहा में खुली रहीं दुकानें, शांति से हुई नमाजः अमरोहा जनपद में दुकानों को बंद करने जैसी कोई घटना नहीं हुई। ऐसा सिर्फ मुरादाबाद में हुआ। पूरे जनपद की मस्जिदों में शांतिपूर्ण तरीके से जुमे की नमाज अदा की गई। हालांकि यहां पर भी जगह-जगह पर पुलिस बल तैनात रहा।

Edited By: Samanvay Pandey

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट