Move to Jagran APP

कांग्रेस नेत्री माहिरा खान ने पशु तस्करी करके कमाई थी मोटी रकम, बदनामी के लग चुके हैं कई दाग

Mahira Khans criminal history ठाकुरद्वारा कोतवाली में ही तिलकपुर गांव के जाहिद हुसैन ने धोखाधड़ी के आरोप में महक वारसी के खिलाफ मुकदमा दर्ज करा रखा था। जाहिद का आरोप था कि उनसे इंटर कालेज की मान्यता दिलाने के नाम से साढ़े तीन लाख रुपये की ठगी की गई।

By Narendra KumarEdited By: Published: Mon, 08 Nov 2021 08:49 AM (IST)Updated: Mon, 08 Nov 2021 08:49 AM (IST)
इंटर कालेज की मान्यता कराने के नाम पर हड़प थे साढ़े तीन लाख रुपये।

मुरादाबाद, जागरण संवाददाता। Mahira Khan's criminal history : वर्ष 2015 में समाजवादी पार्टी की सरकार में कांग्रेस की महानगर अध्यक्ष माहिरा खान उर्फ महक वारसी पर बदनामी के कई दाग लगे थे। पुलिस के मुताबिक वह गिरोह बनाकर पशु तस्करी करती थी। गोवध कराकर भी उसने मोटी रकम कमाई थी। इंटर कालेज की मान्यता दिलाने के नाम पर भी उन्होंने साढ़े तीन लाख रुपये हड़प लिए थे। इन सभी मुकदमों के आधार पर तत्कालीन ठाकुरद्वारा के प्रभारी निरीक्षक विद्याराम दिवाकर ने महक वारसी समेत चार के खिलाफ गैंगस्टर की कार्रवाई की थी।

loksabha election banner

ठाकुरद्वारा के प्रभारी निरीक्षक धनन्जय सिंह ने बताया कि भोजपुर में महक वारसी के खिलाफ गोवध अधिनियम की धारा में कई मुकदमे दर्ज हैं। महक वारसी के खिलाफ ठाकुरद्वारा में 29 सितंबर 2015 को गैंगस्टर का मुकदमा दर्ज हुआ। यह मुकदमा अब कोर्ट में ट्रायल पर है। इस मामले में विद्या राम दिवाकर ने मुकदमा लिखाया था। उन्होंने मुकदमा लिखाने के लिए कैंटर की नंबर प्लेट बदलकर पशुओं की तस्करी के मुकदमे को आधार बनाया। इसके साथ ठाकुरद्वारा कोतवाली में ही तिलकपुर गांव के जाहिद हुसैन ने धोखाधड़ी के आरोप में महक वारसी के खिलाफ मुकदमा दर्ज करा रखा था। जाहिद का आरोप था कि उनसे इंटर कालेज की मान्यता दिलाने के नाम से साढ़े तीन लाख रुपये की ठगी की गई है। इस तरह धोखाधड़ी एवं गोवध करके अनैतिक तथा भौतिक धन अर्जित करने के आरोप में महक वारसी समेत चार लोगों के खिलाफ लिखे गए मुकदमे में चार्जशीट भी 2015 में ही लग गई थी। महक वारसी पर आरोप यह है कि वह गिरोह बनाकर धोखाधड़ी कर रही थीं। इसके अलावा गोवध करके भी उन्होंने धन अर्जित किया है। इसी मामले में महक वारसी की गिरफ्तारी हुई है। हालांकि, कांग्रेस पार्टी ने गिरफ्तारी के बाद भी अभी तक महक के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की है।

बहुत पुरानी बात हो गई। माहिरा खान उर्फ महक वारसी उस समय गोवध कराने की आरोपित रहीं थीं। उनके खिलाफ कई मुकदमे दर्ज थे। धोखाधड़ी के आरोप में भी मुकदमा दर्ज हुआ था। इसलिए गैंगस्टर की कार्रवाई की गई थी।

विद्याराम दिवाकर, मुकदमा लिखाने वाले इंस्पेक्टर

कांग्रेस नेत्री महक वारसी के खिलाफ लिखाए गया मुकदमा पुराना है। मुगलपुरा पुलिस ने गिरफ्तारी करने की जानकारी दी है।

विद्या सागर मिश्र, एसपी देहात

कांग्रेस की महिला इकाई की महानगर अध्यक्ष की गिरफ्तारी की सूचना मिली है। इसकी जांच के लिए अनुशासन समिति को दी गई है। जांच के बाद अनुशासनात्मक कार्रवाई होगी। अनुशासन समिति के सामने भी यह मुद्दा रखा जाएगा।

सचिन चौधरी, प्रदेश महासचिव, कांग्रेस

इमरान प्रतापगढ़ी के साथ फोटो किया गया वायरल : माहिरा खान उर्फ महक वारसी की गिरफ्तारी के कुछ समय बाद ही कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के राष्ट्रीय अध्यक्ष इमरान प्रतापगढ़ी के साथ उसका फोटो वायरल कर दिया गया। इसमें वह कांग्रेस नेता का स्वागत करते हुए गुलदस्ता भेंट कर रहीं हैं। खुद कांग्रेस नेता भी इस फोटो को आगे बढ़ा रहे हैं। साथ ही जेल भेजे जाने का फोटो भी वायरल किया गया। इमरान प्रतापगढ़ी मुरादाबाद लोकसभा क्षेत्र से 2019 में चुनाव लड़ चुके हैं।


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.