मेरठ, जागरण संवाददाता। World Heart Day 2022 बदलती जीवन शैली हार्ट अटैक से मौत के कारणों में से एक है। तनाव और भागदौड़ भरी जिंदगी में व्यक्ति की दिनचर्या अनियमित हो गई है और तनाव बढ़ रहा है। इसका सबसे अधिक असर युवाओं पर पड़ रहा है। इसीलिए दिल का खास ध्‍यान रखना बेहद जरूरी है।

युवाओं में बढ़ रहे हार्ट अटैक के मामले

पश्चिमी देशों की तुलना में अपने देश में युवाओं में हार्ट अटैक के मामले ज्यादा सामने आ रहे हैं। ऐसे में घर और कार्य स्थल पर तनाव का प्रबंधन बहुत आवश्यक है। हृदय रोग विशेषज्ञ अब इसी बात पर जोर दे रहे हैं। गुरुवार 29 सितंबर को विश्व ह्दय दिवस मनाया जा रहा है। हर साल थीम बदलती है। इस बार की थीम है यूज हार्ट फार एवरी हार्ट। जो एक-दूसरे का समर्थन करके हृदय रोग से लड़ने के लिए दुनिया भर के लोगों को एकजुट करने पर केंद्रित है।

स्वस्थ आहार का सेवन करें

लाला लाजपत राय मेडिकल कालेज के हृदय रोग विशेषज्ञ डा. धीरज सोनी ने बताया कि दिल का ख्याल रखने से ही हृदय रोग से बच सकेंगे। स्वस्थ आहार का सेवन करें। फास्ट फूड और तली हुई चीजों से भरपूर भोजन से परहेज करें। ताजे फल और सब्जियों, अंकुरित बीज, अखरोट, बादाम प्रतिदिन खाएं। गैर तली हुई मछलियों का प्रतिदिन सेवन करना भी लाभदायक है। 30 मिनट नियमित व्यायाम जरूरी है। रक्तचान और मधुमेह जैसी बीमारियों का पर्याप्त उपचार लेना जरूरी है। धूम्रपान से बचना भी जरूरी है।

हृदय रोग की समस्या के मुख्य कारण

- तली हुई चीजों का अत्यधिक सेवन।

- बदलते जाब प्रोफाइल के कारण बदली जीवन शैली।

- ब्लड प्रेशर, डायबिटीज जैसी बीमारियों का बढ़ना।

- मध्यम आय वर्ग में हृदय रोग धूम्र्रपान मुख्य कारण।

ह्दय की बीमारी के संकेत

- सीने में दर्द, सांस लेने में दिक्क्त, सीने में भारीपन, बिना कोई शारीरिक कार्य करे बगैर पसीना आना, चिंता और घबराहट, रात को सोने में कठिनाई, सोते वक्त अचानक घबरा कर उठ जाना, बाजू व गर्दन में दर्द, बेचैनी महसूस होना।

Edited By: PREM DUTT BHATT

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट