मेरठ, जेएनएन। गन्ना सहकारी समिति की ओर से महिला स्वयं सहायता समूह के माध्यम से सिंगल बड व सिंगल बड चिप विधि से गन्ना नर्सरी तैयार हो रही है। इसी क्रम में ढिकोली में पार्वती महिला स्वयं सहायता समूह की ओर से सिंगल बड चिप विधि से गन्ना नर्सरी की स्थापना की जा रही है। ज्येष्ठ गन्ना विकास निरीक्षक शौबीर सिंह ने गुरुवार को ढिकोली पहुंचकर गन्ना नर्सरी स्थापना का निरीक्षण किया।

सिंगल बडचिप विधि से गन्ना नर्सरी हो रही तैयार

ढिकोली में निरीक्षण दौरान गन्ना समिति के ज्येष्ठ गन्ना विकास निरीक्षक शौबीर सिंह ने बताया कि यहां पर समूह की अध्यक्षा सीमा सैनी व अन्य सदस्यों द्वारा मौके पर गन्ना प्रजाति सीओएस-0238, CO 0118 की पौध तैयार की जा रही है। बड कटर से एक आंख के टुकड़ों को कार्बेंडाजिम के घोल में उपचारित कर पोट ट्रे में कोकोपिट मिक्सचर के साथ लगाया जा रहा है। मौके पर पहुंचे ग्राम किशनपुर वीराना के कृषकों रामानंद व अन्य के द्वारा इस तरह से गन्ना नर्सरी की स्थापना की प्रक्रिया को समझा। इस ग्रुप द्वारा कुल 10 लाख पौध तैयार की जाएगी जिसकी बुकिंग शुरू हो चुकी है।

पार्वती समूह की नर्सरी में 2 लाख पौधे उपलब्ध

मौके पर लगभग 25 दिन पूर्व तैयार नर्सरी में लगभग 2 लाख पौधे उपलब्ध हैं। इन पौधों की बिक्री 25–30 सितंबर से प्रारंभ होगी। विभाग द्वारा समूह को प्रति पौध रुपये 1.30 (सिंगल बड) व 1.50 (सिंगल बड चिप) की दर से अनुदान दिया जाएगा।

अन्य 28 समूह भी इसी सप्ताह लगाएंगे पौध

ढिकोली के अलावा समिति क्षेत्र में स्थापित अन्य 28 समूहों द्वारा भी इसी सप्ताह में नर्सरी की स्थापना की जाएगी। उक्त विधि से तैयार पौध द्वारा गन्ना उत्पादन में बढ़ौतरी होगी।

ये हैं लाभ

इस विधि से गन्ने की नर्सरी के पौधे से बुवाई में बीज की बजत होगी और गन्ने की गुणवत्ता बढ़ेगी। वही गन्ने की पैदावार वार में 20 से 30 फ़ीसदी बढ़ेगी। साथ ही महिला समूह को आमदनी होगी।  

Edited By: Taruna Tayal