ओम बाजपेयी, मेरठ :

रैपिड रेल मेरठ के लिए क्रांतिकारी परिवहन सुविधा साबित होगी। दिल्ली पहुंचने पर यात्री उसी स्थान से अलवर और पानीपत के लिए रैपिड रेल पकड़ सकेंगे। सरायकाले में प्रस्तावित रैपिड रेल के स्टेशन को इंटीग्रेटेड ट्रांसपोर्ट सिस्टम के रूप में विकसित करने की योजना पर तेजी से काम चल रहा है। मेट्रो, बस अड्डा और रेलवे स्टेशन को सीधे जोड़ा जाएगा।

अगर आप सोचते हैं रैपिड रेल से दिल्ली पहुंचने के बाद आपको दिल्ली में ही दूसरे स्थानों पर जाने के लिए या बाहर जाने के लिए दूसरे साधनों के लिए भटकना पड़ेगा तो ऐसा नहीं होगा। दिल्ली से मेरठ के साथ दिल्ली से राजस्थान के अलवर और दिल्ली से हरियाणा के पानीपत के लिए रैपिड रेल संचालन पर तेजी से कार्य चल रहा है। मेरठ रैपिड रेल के लिए फाइनल लोकेशन सर्वे के लिए टेंडर प्रक्रिया शुरु हो गई है। नेशनल कैपिटल रीजन ट्रांसपोर्ट कारपोरेशन के विशेषज्ञों के अनुसार तीनो स्थानों का जंक्शन प्वाइंट सरायकाले खां में बनाया जाएगा। यहां से अलवर और पानीपत के लिए भी रैपिड रेल मिल सकेगी। यही नहीं जिस स्थान पर रैपिड रेल का स्टेशन प्रस्तावित है उसे आठ सौ मीटर दूरी निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन है। सरायकाले खां आइएसबीटी बस अड्डा भी प्रस्तावित स्टेशन की लोकेशन के पास ही है।

एलीवेटेड होगा सरायकाले खां का स्टेशन

सरायकालेखां में भूमिगत मेट्रो अगले साल आरंभ हो जाएगी। जहां से दिल्ली के कोने कोने के लिए मेट्रो उपलब्ध होगी। आरआरटीएस के विशेषज्ञों के अनुसार सरायकाले खां में एलीवेटेड रैपिड रेल का स्टेशन बनेगा। जो प्लान तैयार किया जा रहा है उसमें लिफ्ट, एस्केलेटर , वाकालेटर, फुट ओवर ब्रिज, अंडर पास जैसे माध्यमों से रेलवे स्टेशन और बस अड्डे को जोड़ा जाएगा ताकि सामान आदि ले जाने में लोगों को असुविधा न हो। सीपीआरओ ने बताया कि सरायकाले खां में प्रस्तावित रैपिड रेल के स्टेशन को वन स्टाप डेस्टिनेशन के रूप में विकसित करने पर मंथन चल रहा है।

Posted By: Jagran