मेरठ, जागरण संवाददाता। Meerut Weather Update इस बार तो सितंबर में घुमड़-घुमड़ के आ रहे बादल सावन का अहसास कर रहे हैं। एक सप्ताह से चल रहा बरसात का सिलसिला आगे भी जारी रहेगा। आज शनिवार को भी खूब भीगने के लिए तैयार रहें। लेकिन वहीं जगह-जगह जलभराव ने मुसीबत बढ़ा दी है। मौसम विभाग ने शुक्रवार के लिए ग्रे एलर्ट जारी किया था। शनिवार को सुबह से आसमान पर बादल नजर आए।

पश्चिम उत्तर प्रदेश के लिए ग्रे अलर्ट जारी किया

बरसात शुक्रवार की देर रात भी जारी रही। मौसम विभाग ने 24 सितंबर के लिए पश्चिम उत्तर प्रदेश में ग्रे अलर्ट जारी किया है। मौसम विभाग ने पूर्वानुमान को लेकर चार प्रकार की श्रेणी बनाई। ग्रीन कलर सामान्य मौसम के दर्शाता है। इससे तात्पर्य है कि मौसम साफ रहेगा।

यह भी समझे 

वहीं यलो रंग निगरानी की श्रेणी में आता है। इसमें हल्की अर्थात तीन घंटे में पांच मिलीमीटर तक वर्षा हो सकती है। वहीं ग्रे एलर्ट सतर्क रहने के लिए इंगित करता है। इसमें 5 से 15 मिलीमीटर तक बरसात हो सकती है। शुक्रवार को मौसम विभाग ने मेरठ, बिजनौर, सहारनपुर, बागपत के लिए ग्रे एलर्ट जारी किया था।

पूरे महीने का कोटा पूरा किया

पूरा दिन आसमान में बादल छाए रहे। कभी तेज तो कभी धीमे फुहारें गिरती रही। आंकड़ों पर नजर डालें तो सात दिनों में हुई बारिश ने पूरे माह का कोटा पूरा कर दिया है। गुरुवार की रात भारी बरसात देखने को मिली। 63.4 मिलीमीटर वर्षा हुई है। पूरे सितंबर में 130 मिलीमीटर बरसात का औसत है। इस तरह लगभग आधी वर्षा रात भर में हो गई।

170 मिलीमीटर वर्षा

अतिरेक बरसात से सुबह के समय लोगों काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। दिन में भी 12.4 मिलीमीटर बरसात हुई। शुक्रवार की शाम तक 170 मिलीमीटर वर्षा हो चुकी थी। यह सामान्य से 30 प्रतिशत अधिक है। जबकि अगस्त में 82 प्रतिशत कम बरसात देखने को मिली थी। पूर्वानुमान 16 से लगातार हो रही बारिश ने लोगों को परेशानी में डाल दिया है।

फसलों पर न करें कोई छिड़काव

कृषि प्रणाली संस्थान के प्रधान मौसम विज्ञानी डा. एन सुभाष ने बताया कि गन्ने के खेतों में ज्यादा पानी भरना नुकसान देह है। ऐसे में जल निकासी का प्रबंध करना चाहिए। सरदार वल्लभ भाई पटेल कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के मौसम केंद्र के प्रभारी डा. यूपी शाही ने बताया कि 23 और 24 को भी मध्यम बारिश होने की संभावना है। 25 सितंबर से इसमें कमी देखी जाएगी। फसलों में किसी रसायन का छिड़काव नहीं करना चाहिए।

दिन पर दिन बरसात

16 सितंबर - 18.5

17 सितंबर - 20.9

18 सितंबर - 1.7

20 सितंबर - 36.3

21 सितंबर - 2.4

22 सितंबर - 10.4

23 सितंबर - 66.8

2016 के बाद सितंबर के तीसरे सप्ताह में वर्षा

मेरठ : लगातार सातवें दिन वर्षा जारी है। गुरुवार को शाम तक 14 मिमी वर्षा हुई। गुरुवार का अधिकतम तापमान 29 डिग्री जो सामान्य से पांच कम था। वहीं, न्यूनतम तापमान 23.2 डिग्री जो सामान्य से एक डिग्री अधिक रहा। भारतीय कृषि प्रणाली अनुसंधान संस्थान मोदीपुरम के मौसम विज्ञानी डा. एन. सुभाष ने बताया कि सितंबर के तीसरे सप्ताह में 2016 के बाद पहली बार बरसात हो रही है। गुरुवार तक 95 मिमी वर्षा हो चुकी है। शुक्रवार को भी बादल छाए रहेंगे और वर्षा की संभावना है। मौसम विज्ञानियों के अनुसार 25 सितंबर तक बूंदाबांदी जारी रहने की संभावना है। 

बागपत में वर्षा से जीवन अस्त-व्यस्त

बागपत : जिले में लगातार हो रही वर्षा से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया। फसलों को नुकसान पहुंचेगा। धान की फसल गिर गई है। गन्ने की फसल में भी नुकसान की संभावना बढ़ गई। सब्जी वर्गीय फसल भी नुकसान की चपेट में है। नीचले इलाको वाली बस्ती और मोहल्लों में रहने वालों लोगों के सामने परशानी बढ़ी है। व्यापार पर भी वर्षा का असर पड़ा है।

12वीं तक के स्‍कूल बंद

डीएम राजकमल यादव ने सभी बोर्ड के स्कूलों का 12वी तक की कक्षाओं का अवकाश घोषित कर दिया। मौसम विशेषज्ञ अंकिता नेगी ने बताया की शनिवार को भी तेज और मध्य वर्षा की संभावना है। रविवार को मौसम खुल सकता है। न्यूनतम तापमान 24 डिग्री सेल्सियस और अधिकतम तापमान 29 डिग्री सेल्सियस और 30 एमएम वर्षा रिकार्ड किया गया।

बिजनौर में तेज हवा से धान को नुकसान की आशंका

बिजनौर : शुक्रवार रात करीब एक घंटे तक हवा के तेज झोंको के साथ मूसलाधार बारिश हुई। शनिवार सुबह से भी बादल छाए हुए हैं और हवा के तेज झोंके चल रहे हैं। हवा के झोंकों से फसल गिर गई तो इससे उत्पादन प्रभावित होगा और धान का दाना भी काला पड़ जायेगा। इससे किसान परेशान हैं। लगातार हो रही बारिश की अब जरूरत नहीं हैं क्योंकि फसलों की सिंचाई हो चुकी है। अब बारिश से सब्जियों की बुआई ही प्रभावित होगी।

शामली में भी छाए हैं बादल

शामली में शनिवार की सुबह से बादल छाए हैं। देर रात्रि में वर्षा हुई थी। सुबह तेज हवा भी चली। इससे मौसम और ठंडा हो गया है। मौसम विभाग का अनुमान है कि दोपहर में वर्षा होने के साथ ही आंधी भी आ सकती है।

Edited By: Prem Dutt Bhatt