जागरण संवाददाता, मेरठ : माय सिटी माय प्राइड (my city my pride ) अभियान के अंतर्गत आयोजित राउंड टेबल कॉन्‍फ्रेंस में चर्चा के बाद तमाम कार्यों को शुरू करने का निर्णय लिया गया। इसमें तय हुआ कि 11 फरवरी को वेदव्यासपुरी स्थित मेरठ (Meerut) पब्लिक स्कूल में सार्वजनिक पुस्तकालय का शुभारंभ किया जाएगा। शहर की पहली ठंडी सड़क चाणक्यपुरी में कुटी चौराहे से जागृति विहार रोड तक बनाई जाए।

परतापुर से संजय वन के बीच किसी एक चौराहे इंडियन इंडस्ट्रीज एसोसिएशन (आइआइए) गोद लेगा। अप्रैल के तीसरे सप्ताह में महिला फुटबॉल टूर्नामेंट आयोजित किया जाने की रूपरेखा पर मोहर लगी। इसके साथ पांच प्रवेश द्वारों पर प्रतिमाएं लगाने, आइएमए भवन में ब्लड बैंक के साथ ही औषधि बैंक भी स्थापित किए जाने की संभावनाओं पर विस्तार से चर्चा हुई। 

शहर के लिए कुछ ऐसा करना जिस पर हम सब गर्व कर सकें और वह कार्य ऐसा हो जिसे जनसहभागिता से किया जा सके। माय सिटी माय प्राइड अभियान के तहत पिछले दिनों ऐसे ही 11 लक्ष्य तय किए गए, जिस पर चर्चा करने व जनसहभागिता से उस कार्य को आगे बढ़ाने के लिए राउंड टेबल कॉन्‍फ्रेंस (आरटीसी) का आयोजन किया जाता है। इसी क्रम में मंगलवार को दैनिक जागरण कार्यालय में आरटीसी आयोजित की गई। पिछले दिनों हुई आरटीसी में मेरठ पब्लिक स्कूल के निदेशक विक्रमजीत शास्त्री ने सार्वजनिक पुस्तकालय खोलने का वादा किया था।

 

उन्होंने बताया कि इसकी तैयारी पूरी हो गई है। 11 फरवरी को सुबह 11 बजे इसका शुभारंभ किया जाएगा। इस पर दीवान पब्लिक स्कूल के प्रिंसिपल एचएम राउत ने सहमति जताई। गरीब नेत्र रोगियों को 10 रुपये में चश्मा उपलब्ध कराने पर भी बात हुई। इसे कल्याणं करोति संस्था के रवि बख्शी के माध्यम से उपलब्ध कराया जाएगा, जिसके लिए आइआइए और रियल एस्टेट डेवलेपर्स एसोसिएशन की ओर से आर्थिक सहायता की घोषणा की।

चौराहों को गोद लेने के विषय पर काफी विचार विमर्श के बाद तय हुआ कि परतापुर से संजय वन के बीच किसी भी एक चौराहे को गोद लेकर उसका सौंदर्यीकरण कराया जाए। आइआइए चौराहे गोद लेगा और उसमें आवश्यक काम कराएगा। शहर के पांच प्रवेश द्वारों पर स्वागत बोर्ड व क्रांतिकारियों की प्रतिमा या शहर के पहचान से जुड़े खेल उत्पादों के प्रतीक स्थापना की जाएगी। इसमें सबसे पहले मोदीपुरम के पास रुड़की रोड पर ऐसा प्रवेश द्वार विकसित करने पर सहमति बनी। इसमें भी रियल स्टेट डेवलपर्स एसोसिएशन की ओर से प्रमुख रूप से आर्थिक सहायता दी जाएगी।

महिला फुटबॉल टूर्नामेंट के लिए तय हुआ कि इसी अप्रैल माह में इसका आयोजन किया जाए। अरुणोदय संस्था की अनुभूति चौहान और ऋचा सिंह ने बताया कि इसको लेकर वे तैयारी कर रही हैं। इसमें राष्ट्रीय महिला फुटबॉल टीम को भी आमंत्रित किया जाएगा। फैशन एक्सपर्ट निधि जैन ने भी शहर के विकास की दिशा में अपने सहयोग का वादा किया।

छायादार पौधे रोपेंगे, बंच लगेगी
ठंडी सड़क के विषय पर तय हुआ कि अब जल्द से जल्द एक सड़क को इसके लिए चयनित कर लिया जाए। बहरहाल तय हुआ कि कुटी चौराहा से जागृति विहार की ओर जाने वाली चाणक्यपुरी की सड़क पर पौध रोपण करके उसे ठंडी सड़क बनाई जाए। इसकी अगुवाई पर्यावरण के क्षेत्र में लंबे समय से कार्य कर रहे गिरीश शुक्ला कर रहे हैं। यहां पर भविष्य में बेंच रखने व फुटपाथ भी बनाया जाएगा, जिसमें मदद के लिए एमडीए उपाध्यक्ष साहब सिंह ने आश्वासन दिया।

खुल चुका है ब्लड बैंक, एक मार्च को कीजिए रक्तदान
आइएमए की ओर से ब्लड बैंक खोला जा चुका है। यही नहीं यहां पर प्लेटलेट्स व एफएफपी भी जरूरत के अनुरूप लिया जा सकता है। इस दौरान तय हुआ कि इस ब्लड बैंक के लिए पहले चरण में शहर के वे गणमान्य लोग डोनेट करेंगे जो माय सिटी माय प्राइड अभियान से जुड़े हैं। इसके लिए आइएमए भवन में एक मार्च को रक्तदान शिविर आयोजित किया जाएगा। इसी के साथ आइएमए के पूर्व अध्यक्ष डा. विरोत्तम तोमर व वर्तमान अध्यक्ष डा. शिशिर जैन से कहा गया कि आइएमए भवन में ही एक औषधि बैंक बनाया जाए। इसमें यह भी तय हुआ कि भविष्य में ऐसा किया जाए कि जिनके पास अगर दवा बची हो और वह एक्सपायर न हुई हो तो उसे इसमें दान किया जा सके।

आप गरीब बच्चे लाओ...ये पढ़ाएंगे, वे सेना लायक बनाएंगे
सीए अनुपम ने बताया कि वह क्लब 60 की ओर चिह्नित किए गए नौ बच्चों की शिक्षा में मदद कर चुके हैं। विक्रमजीत सिंह शास्त्री ने पांच बच्चों को आगामी सत्र में गोद लेने की घोषणा की। असीम ने बताया कि पहल-एक प्रयास संस्था की पहल पाठशाला में भी ऐसे बच्चों को पढ़ाया जा रहा है। इस दौरान यह प्रश्न उठा कि प्राथमिक से लेकर उच्च शिक्षा तक पढ़ाई में मदद करने के लिए कई लोग तैयार हैं, लेकिन उन्हें बच्चे नहीं मिल पा रहे हैं। इस पर समाजसेवी कृष्णा ढाका ने आश्वस्त किया कि वह ऐसे असहाय बच्चों को चिह्नित करके बताएंगी। अन्य लोगों ने भी ऐसे बच्चों को चिह्नित करने को कहा। इसी दौरान कर्नल त्यागी ने घोषणा की कि वह कक्षा 10 उत्तीर्ण ऐसे बच्चों को सेना की तैयारी में मदद करेंगे और अपने योद्धा एकेडमी में पढ़ाएंगे जो आर्थिक रूप से सक्षम नहीं हैं। कर्नल अमरदीप ने वेदव्यासपुरी में एक पार्क को भी गोद लेने की घोषणा की जिस पर एमडीए वीसी ने सहमति जताई।

दीवारों पर पोस्टर चिपकाने वालों को देंगे नसीहत
दीवारों पर पेंट करके कलात्मक आकृति बनाकर पहल एक प्रयास जैसी संस्था शहर को सुंदर बनाने में लगी है तो वहीं शहर के तमाम संस्थानों के लोग उन दीवारों पर पोस्टर चिपका कर उसे गंदा बनाने में लगे हैं। ऐसे लोगों को बेनकाब करने के लिए प्रशासन स्तर से उन्हें नोटिस भिजवाया जाएगा वहीं पोस्टर चिपकाने का कार्य वेंडर करते हैं। ऐसे वेंडरों को जल्द ही ऐसा न करने की शपथ दिलाई जाएगी।

'एमडीए की ओर से जो भी मदद की जरूरत होगी की जाएगी। किसी प्रकार की एनओसी की जरूरत होगी तो उसे भी नियमानुसार जल्द से जल्द दिया जाएगा। माय सिटी माय प्राइड का प्रयास अच्छा है।'
-साहब सिंह, वीसी एमडीए

इनकी भी रही मौजूदगी
पहल एक प्रयास संस्था से वसंत चौहान, प्रणवीर सिंह, अमरेश वशिष्ठ, सीए प्रभात गुप्ता, टीम क्लीन मेरठ के प्रमुख अमित अग्रवाल, आइआइए से पंकज गुप्ता, डा. संजीव, जिला विज्ञान क्लब के समन्वयक दीपक शर्मा, अमात्य संस्था के राजेश भारती, युवा उद्यमी सजल, दीपक जैन व पर्यटन विभाग से महेश आदि उपस्थित रहे।

 

By Krishan Kumar