जागरण संवाददाता, मेरठ : शहर में किस सड़क को ठंडी सड़क के रूप में तब्दील किया जाए? इसके लिए सड़क की तलाश जारी है। कुछ प्रस्ताव खारिज होने के बाद अब नए सुझाव आए हैं। जिस पर संबंधित विभाग की सहमति की बात आगे बढ़ाई जाएगी। 

दैनिक जागरण के महा अभियान 'माय सिटी माय प्राइड' के तहत कुछ समय पूर्व राउंड टेबल कांफ्रेंस आयोजित की गई थी। जिसमें इंफ्रास्ट्रक्चर पिलर के अंतर्गत ठंडी सड़क बनाने का लक्ष्य रखा गया। 'ठंडी सड़क' यानी ऐसी सड़क जिसके दोनों तरफ छायादार पेड़ हों। जहां राहगीर पेड़ की छांव में कुछ पल विश्राम कर सकें। एक किमी सड़क को तैयार करने के लिए पर्यावरण के क्षेत्र में कार्य करने वाले गिरीश शुक्ला को नोडल बनाया गया था।

इसके बाद गिरीश ने प्रयास शुरू किए थे। इसके लिए पहले बिजली बंबा बाईपास का विकल्प आया लेकिन भविष्य में इसका चौड़ीकरण होना है इसलिए इसे खारिज कर दिया गया। इसके बाद मवाना रोड समेत अन्य सुझाव आए मगर वे भी किसी न किसी तकनीकी दिक्कतों की वजह से चुने नहीं जा सके। अब सुझाव आया है कि गंगानगर से रक्षापुरम जाने वाली सड़क या फिर जागृति विहार-लोहियानगर के पास इनर रिंग रोड को ठंडी सड़क बनाई जाए। रक्षापुरम की सड़क मेरठ विकास प्राधिकरण के अंतर्गत है और सड़क के किनारे काफी आवास हैं।

जागृति विहार-लोहियानगर में 45 मीटर चौड़ी इनर रिंग रोड का हिस्सा बन चुका है, ऐसे में इसे भी बेहतर विकल्प के रूप में चुना जा सकता है। यह सड़क एमडीए व आवास विकास के अंतर्गत है। इन दोनों सड़कों के विकल्प की विभागीय अड़चनें दूर करने के लिए एमडीए से बात की जाएगी। ताकि स्वीकृति मिलते ही पौधरोपण का कार्य शुरू किया जा सके।

By Krishan Kumar