नई दिल्ली,जेएनएन। 'माय सिटी माय प्राइड' अभियान में मेरठ के लोगों ने बढ़-चढ़कर हिस्सेदारी दिखाई। अब इस अभियान के तहत यहां सुखद नतीजे भी सामने आने लगे हैं। यह इस अभियान का ही असर है कि शहर में ठंडी सड़क बनाने की बात होने लगी है। इस अभियान के तहत अब 11 मुद्दों को चिह्नित किया है, जिन पर काम किया जाना है। यह सभी कार्य सरकारी विभाग, कॉरपोरेट सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी और कम्युनिटी द्वारा होने हैं।

शहर की बेहतरी के 11 समाधान
1.शहर की एक कि.मी. सड़क के दोनों ओर पौधे रोपे जाएंगे। (संरक्षक- गिरीश शुक्ला/वन विभाग/ पीडब्ल्यूडी)
2. यातायात के नियमों के प्रति जागरूक करने की दिशा में काम किया जाएगा। ट्रैफिक सेंस डेवलपमेंट जागरूकता कार्यक्रम स्कूलों के साथ ही दफ्तरों में भी चलेगा। (संरक्षक- रोड सेफ्टी क्लब)
3. शहर के प्रमुख मार्गों की दीवारों को कलाकृतियों के माध्यम से सुंदर बनाया जाएगा। (संरक्षक- विश्वजीत बेंबी/अमित कुमार अग्रवाल)
4. ब्लड बैंक और औषधि बैंक की स्थापना की पहल की जाएगी। (संरक्षक- आइएमए/ सेवा भारती)
5. विशिष्ट पहचान देने के उद्देश्य से मेरठ के सभी पांचों प्रवेश द्वारों पर प्रतिमाएं लगाई जाएंगी। (संरक्षक- रियल एस्टेट डेवलपर्स एसोसिएशन/ एडको डेवलपर्स प्रा.लि.)
6. मेरठ में अंतरराष्ट्रीय स्तर का खेल आयोजन किया जाएगा। (संरक्षक- स्टैग के निदेशक राकेश कोहली/ त्रिलोक आनंद)
7. शहर के पब्लिक स्कूल और कुछ शिक्षक मिलकर गरीब बच्चों को गोद लेंगे। उनके पढ़ाई का खर्च वहन करेंगे। (संरक्षक- विक्रम शास्त्री, निदेशक, मेरठ पब्लिक स्कूल)
8. ऐसे बच्चे जो स्कूल जाने से वंचित हैं या फिर वे बच्चे जो स्वयं स्कूल नहीं जाना चाहते। ऐसे बच्चों को चिह्नित करके उन्हें पढ़ाया जाएगा। (संरक्षक- बेसिक शिक्षा विभाग)
9. शहर की गंदगी से निबटने के लिए नालों को ढका जाएगा। (संरक्षक- जिला प्रशासन)
10. मेरठ में ईएसआई अस्पताल खोला जाएगा, ताकि कर्मचारियों को अच्छा इलाज मिल सके। (संरक्षक- सांसद)
11. जल संचयन के लिए हार्वेस्टिंग यूनिटों का निर्माण किया जाएगा। (संरक्षक- अतुल भूषण गुप्ता, मंडलीय अध्यक्ष, आइआइए)

By Krishan Kumar