मेरठ, जेएनएन। लव जिहाद में मां बेटी का बेरहमी से कत्ल करने में शमशाद के साथ उसकी पत्नी आयशा और साले दिलावर ने भी अहम भूमिका निभाई थी। शमशाद ने दोनों की हत्या की, जबकि दिलावर ने उन्हें दफन करने के लिए बेडरूम में कब्र खोद रखी थी। हत्या की प्‍लानिंग में आयशा भी शामिल थी, जो हत्याकांड के बाद ही भूड़ बराल से गाजियाबाद में किराये के मकान में रहने लगी थी।

यह था पूरा मामला

25 जुलाई को परतापुर के भूड़ बराल से पुलिस ने शमशाद को गिरफ्तार कर घर के अंदर से प्रिया और उसकी बेटी कशिश के शव बरामद किए थे। शमशाद ने लव जिहाद के चलते दोनों की हत्या की थी। मूलरूप से गाजियाबाद के नेहरू नगर निवासी प्रिया पति से तलाक के बाद मोदीनगर में अपनी बेटी के साथ सहेली के पास किराये के मकान में रहने लगी थी। वहीं पर शमशाद ने प्रिया को प्रेमजाल में फंसाया और भूड़ बराल में उनके साथ रहने लगा। लॉकडाउन के दौरान शमशाद ने मां-बेटी की हत्या कर शव घर के अंदर ही गाड़ दिए। प्रिया की सहेली चंचल की तरफ से मुकदमा दर्ज होने के बाद पुलिस ने दोनों के कंकाल बरामद कर शमशाद को जेल भेज दिया। मृतक की तस्दीक करने के लिए प्रिया की मां शीला देवी और पिता मांगेराम का डीएनए भी जांच के लिए भेजा जा चुका है।

दो और आरोपितों ने अदालत में किया आत्‍मसमर्पण

गुरुवार को शमशाद की पत्नी आयशा और साले दिलावर निवासी पटना बिहार ने अदालत में आत्मसमर्पण कर दिया। पुलिस ने दोनों को जेल भेज दिया। इंस्पेक्टर आनंद मिश्रा ने बताया कि शमशाद के साथ आयशा और दिलावर ने भी हत्या में अहम भूमिका निभाई थी। पुलिस ने इन दोनों को भी हत्या का आरोपित बनाया है। इस हत्याकांड को दबाने में अहम भूमिका निभाने वाले कुछ आरोपित अभी पुलिस की पकड़ से दूर हैं। एसपी सिटी अखिलेश नारायण सिंह का कहना है कि हत्याकांड में शामिल सभी आरोपितों को जेल भेजा जाएगा।  

Edited By: Prem Bhatt