मेरठ, जागरण संवाददाता। मेरठ में सात साल के मासूम ने साहस का परिचय देते हुए एक महिला की जान बचा ली। पार्क में घूमने के दौरान महिला को बंदरों के झुंड ने घेर लिया था। उस दौरान पड़ोसी बालक कुत्तों को रोटी खिला रहा था। सात साल का बच्चा डंडा लेकर बंदरों के पीछे दौड़ा तो कुत्ते भी उसके पीछे बंदरों के झुंड की तरफ भाग लिए। कुत्तों को देख बंदर भागे तो महिला की जान में जान आई। बच्चे के साहस को देखते हुए कॉलोनी के लोगों ने बैठक कर उसे पुरस्कृत किया है।

राधा गार्डन कॉलोनी निवासी महिला आशा विज पार्क में घूम रही थी। उस दौरान बंदरों के झुंड ने महिला को घेर लिया। पास में ही कॉलोनी निवासी नवीन का सात वर्षीय पुत्र डुग्गू कुत्तों को रोटी खिला रहा था। बंदरों के झुंड से महिला को घिरा देख डुग्गू ने साहस दिखाया और डंडा लेकर बंदरों की तरफ दौड़ पड़ा। उसके पीछे-पीछे कुत्ते भी बंदरों की ओर भाग लिए।

कुत्तों को अपनी ओर आता देख बंदर गुर्राते हुए वहां से भाग खड़े हुए। महिला ने जब बच्चे के साहस की बात कॉलोनी में बताई तो सभी ने उसकी प्रशंसा की। रविवार को राधा गार्डन के आदर्श पार्क में कॉलोनीवासियों की बैठक हुई। जिसमें सात वर्षीय बालक डुग्गू को बहादुरी के लिए प्रतीक चिह्न देकर प्रोत्साहित किया गया। कॉलोनी में बंदरों के आंतक से लोग परेशान हैं। नगर निगम से इस संबंध में शिकायत भी की जा चुकी है।

Edited By: Prem Dutt Bhatt