बुलंदशहर, जागरण संवाददाता। Aziz Qureshi News मिजोरम व उत्तराखण्ड के पूर्व राज्यपाल अजीज कुरैशी ने कहा कि ज्ञानवापी का मुद्दा कोर्ट में है। जब तक कोई निर्णय नही होता तब तक दोनों समुदायों को गलत बयानबाजी से बचना चाहिए। दोनों पक्षों को राजनीति के चलते बांटने वाले लोगों से बचने की जरूरत है। रविवार को सिकंदराबाद के नगर खत्रीबाडा में इरफान कुरेशी के यहां निजी कार्यक्रम में पूर्व राज्यपाल अजीज कुरैशी ने शिरकत की। इस दौरान कुछ सवालों के जवाब में उन्होंने कहा कि हिंदुस्तान मुस्लिमों का भी देश है। मुस्लिमों ने भी देश को आजाद कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

समाज को बांटने की हो रही कोशिश

मुस्लिमों को चल रहे मुद्दों से डरने की जरूरत नहीं है। देश की आजादी में भी मुस्लिमों ने खून बहाया है। पाकिस्तान अलग हुआ। लेकिन मुस्लिम अपनी स्वेच्छा से हिंदुस्तान में रहे है। यहीं पुरखे दफन हुए है। हम भी इस देश मे दफन होंगे। लेकिन आज राजनीति के तहत कोई अलाह हू अकबर तो कोई जय श्री राम जय हनुमान के नारे लगा रहा है, यह सब दोनो समाज को बांटने की कोशिश है। ऐसे लोगों से सचेत रहने की जरूरत है। दोनो समुदायों को देश की एकजुटता के साथ रहने की जरूरत पर बल देते हुए उन्होंने कहा कि देश तभी फिर से अंतराष्ट्रीय स्तर पर पहचान कायम रख सकेगा, जब बिना धर्मभेद भाव के दोनों समुदाय एकजुट रहेंगे।

ज्ञानवापी पर ये बोले

वाराणसी के ज्ञानवापी मस्जिद के प्रकरण में के सवाल पर कहा कि मामला कोर्ट में है। कोर्ट के संज्ञान में सारी चीजें हैं और कोर्ट का जो भी आदेश होगा वह शीघ्र सामने आएगा। इसमे दोनो समुदायों को एतिहात बरतनी चाहिए। इस संबंध में वे अधिक कुछ नहीं कह सकते। लेकिन मुस्लिमों को इस देश को आगे बढ़ाने में मुख्य भूमिका जैसे निभाते आए हैं वैसे ही निभानी होगी। इससे पूर्व पूर्व राज्यपाल का समुदाय के लोगों ने स्वागत किया। सुरक्षा को लेकर पुलिस बल तैनात रहा। दो घंटे रूके पूर्व राज्यपाल दिल्ली के लिए पुलिस सुरक्षा के बीच रवाना हो गए। 

Edited By: Prem Dutt Bhatt