मेरठ, जेएनएन। पर्यावरण सुधार संघर्ष समिति के पदाधिकारियों पर एक बार फिर हमला किया गया। हमला कराने का आरोप पूर्व मंत्री याकूब कुरैशी पर लगा है।
20-25 लोगों ने किया हमला
समिति के अध्यक्ष रविंद्र गुर्जर व महामंत्री शक्ति मोहन ने बताया कि शनिवार को वह हापुड़ रोड स्थित जगदंबा अस्पताल में बैठे थे। इस दौरान 20-25 लड़के आए और गाली-गलौज करने लगे। उनसे आंदोलन बंद करने के लिए कहा। विरोध करने पर मारपीट की। लोगों को आता देख हमलावर धमकी देकर फरार हो गए। रविंद्र गुर्जर ने बताया कि अस्पताल के बराबर में याकूब कुरैशी का कार्यालय है, जहां उनका मैनेजर रहता है। हमलावरों में मैनेजर भी था। पीड़ित ने बताया कि पर्यावरण बचाने के लिए उन्होंने मीट प्लांटों को बंद कराने के लिए अभियान चला रखा है। कुछ दिन पूर्व उन्हें धमकी दी गई थी। पंद्रह दिन पहले भी उन पर हमला किया गया था। उन्होंने पूर्व मंत्री याकूब कुरैशी पर हमला कराने का आरोप लगाया। रविंद्र गुर्जर ने मेडिकल थाने में तहरीर देकर कार्रवाई की मांग की है। वहीं, दूसरी बार हमले को लेकर पदाधिकारियों ने आंदोलन की चेतावनी दी है।
सीसीटीवी फुटेज से होगी आरोपितों की पहचान
पुलिस अस्पताल में लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज निकलवाने की तैयारी कर रही है। उसमें पहचान की जाएगी कि अस्पताल में घुसे आरोपित कौन थे। दूसरी ओर पुलिस अन्य कई बिंदुओं पर भी जांच कर रही है। वहीं एसपी सिटी रणविजय सिंह का कहना है कि तहरीर के आधार पर जांच की जा रही है, जो भी दोषी होगा उसके विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। वहीं, पूर्व मंत्री याकूब कुरैशी का कहना है कि जो लोग मेरे ऊपर हमले का आरोप लगा रहे हैं, मैं उन्हें जानता तक नहीं। उनकी जो भी लड़ाई है वह एमडीए से है। मानचित्र स्वीकृत होते ही उनका मीट प्लांट चलेगा।

Posted By: Ashu Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप