मेरठ, जेएनएन। दौराला-सरधना मार्ग पर कुसुम इंटरनेशनल स्कूल में शुक्रवार को दीपोत्सव को लेकर विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया गया, जिसमें बच्चों ने बढ़चढ़कर हिस्सा लिया। स्कूल में नर्सरी से लेकर कक्षा 10 तक के बच्चों ने कैंडल सजाए। साथ ही मिट्टी के पात्र को भी सजाया। इस दौरान प्रथम, द्वितीय, तृतीय स्थान पाने वाले छात्र-छात्राओं को पुरस्कार देकर सम्मानित किया। विद्यालय की प्रधानाचार्य वीना विहान ने बच्चों के प्रयास की सराहना की।

मिट्टी के दीये व बर्तन बनाने में जुटे कुम्हार : दबथुवा में त्योहारी सीजन शुरू होते ही कुम्हार मिट्टी के दीये व बर्तन बनाने में जुट गए हैं। प्रजापति समाज के कारीगर दबथुवा निवासी वीर सिंह प्रजापति ने बताया कि वैसे तो अब मिट्टी के बर्तनों के बजाए अब इलेक्ट्रोनिक्स सामान की खरीदारी ज्यादा बढ़ गई है, लेकिन फिर भी दीपावली के त्योहार पर मिट्टी का बड़ा दीपक, छोटे दीपक, सराई, धुनी आदि की मांग रहती है। उन्होंने बताया कि अब मिट्टी का अभाव होने लगा है। अब बर्तन बनाने के प्रयोग में लाए जाने वाली काली मिट्टी खरीदनी पड़ती है।

गुड टच व बैड टच के बारे में बताया : सरधना के सलावा गांव के प्राथमिक विद्यालय में मिशन शक्ति अभियान के तहत शुक्रवार को कार्यक्रम का आयोजन हुआ। इस दौरान बच्चों को गुड टच व बैड टच के बारे में बताया।

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि जनहित फाउंडेशन व चाइल्ड लाइन की निर्देशिका अनिता राणा मौजूद रहीं। कार्यक्रम की शुरुआत मां सरस्वती के चित्र के समक्ष दीपक जलाकर की गई। अनिता राणा ने छात्र-छात्राओं को सरकार द्वारा चलाई जा रही बालिका योजनाओं के बारे में बताया। साथ ही गुड टच व बैड टच के बारे में बताया। वहीं, छात्राओं ने भी नुक्कड़ नाटक के माध्यम से हेल्पलाइन के बारे में बताया। प्रधानाचार्य गीता सचदेवा, स्कूल की शिक्षिकाएं मौजूद रहीं। चाइल्ड लाइन कोआíडनेटर अजय कुमार और टीम सदस्य इमरान का सहयोग रहा।

Edited By: Jagran