सहारनपुर, जेएनएन। मौलाना कलीम की गिरफ्तारी के बाद एटीएस मतांतरण के शिकार हुए नैनीताल के रहने वाले नितिन पंत को भी सहारनपुर के ब्रिज घाट आश्रम से पूछताछ के लिए ले गई है। नितिन ने आरोप लगाया था कि मौलाना कलीम ने ही फुलत के मदरसे में उसका माइंडवाश किया था। नितिन पंत ने बुधवार देर रात एसपी सिटी राजेश कुमार को एक तहरीर भी दी थी। इसमें उसने मौलाना कलीम पर कई गम्भीर आरोप लगाए थे। विश्व हिंदू अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय सचिव निपुण भारद्वाज ने बताया कि ब्रिज घाट आश्रम से एटीएस नितिन को अपने साथ ले गई है।

गंभीर आरोप लगाए

नितिन ने मौलाना कलीम पर काफी गम्भीर आरोप लगाए हैं, नितिन के अनुसार, उसे एक समुदाय के खिलाफ भड़काया जाता था। उस पर दबाव दिया जाता था कि वह लड़कियों को बहला फुसलाकर लाए। उनका मतातंरण कराए। पूरा खर्च हम उठाएंगे।

यह है प्रकरण

नैनीताल का रहने वाला नितिन पंत 2010 में अपने घर से नॉकरी के लिए निकला था। राजस्थान में उसे दो युवक मिले और मेवात हरियाणा ले गए। यहां पर उसका मतातंरण कराया गया। कुछ साल उसे यहां पर रखा गया। इसके बाद उसे मुजफ्फरनगर के फुलत गांव के मदरसे में रखा गया। नितिन ने बताया कि फुलत में ही उसे मौलाना कलीम सिद्दकी मिला था। उसने उसे इस्लामिक ज्ञान दिया।

नितिन के कई दावे

नितिन ने राजफाश किया किया कि कलीम का एक मदरसा सहारनपुर के रामपुर मनिहारन में भी है। इस मदरसे में उसे दो महीने रखा गया। फुलत के मदरसे में छह महीने तक रखा गया था। उसे दोनों मदरसों में काफी टॉर्चर भी किया जाता था। नितिन बड़ी मुश्किल से कुछ हिंदू युवकों की मदद से वहां से निकला और सहारनपुर पहुंचा। एसपी सिटी राजेश कुमार ने बताया कि नितिन ने पुलिस को नामजद तहरीर दी है। जिस पर जांच शुरू कर दी गई है।

Edited By: Taruna Tayal