Move to Jagran APP

Ghosi lok sabha Chunav Result 2024: मोदी फैक्टर नहीं आया काम, राजीव के सिर सजा ताज

घोसी लोकसभा सीट पर 20 साल बाद दूसरी बार सपा का परचम लहराया है चुनाव में राजीव राय ने भाजपा समर्थित सुभासपा प्रत्याशी डॉ अरविंद को कड़ी टक्कर देते हुए जीत दर्ज की है। 2004 में सपा से चंद्रदेव प्रसाद राजभर सांसद बनकर दिल्ली पहुंचे थे। इसके बाद से लगातार सपा को हार का सामना करना पड़ा। राजीव राय को पहली बार घोसी का प्रतिनिधित्व करने का मौका मिला।

By Jagran News Edited By: Nitesh Srivastava Mon, 03 Jun 2024 08:22 PM (IST)
Ghosi lok sabha Chunav Result 2024: कौन बनेगा घोसी का सरताज

जागरण संवाददाता, मऊ। घोसी लोकसभा चुनाव में मोदी-योगी फैक्टर काम नहीं आया। समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी राजीव राय जनता को साधने में सफल रहे। घोसी संसदीय सीट पर आइएनडीआइ गठबंधन से सपा प्रत्याशी राजीव राय, एनडीए के सुभासपा उम्मीदवार डा. अरविंद राजभर और बसपा प्रत्याशी बालकृष्ण चौहान मैदान में थे। कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर का बढ़ चढ़ कर बोलना लोगों को पसंद नहीं आया।

वहीं जनता ने बसपा प्रत्याशी पूर्व सांसद बालकृष्ण चौहान के चुनावी वादों को नकार दिया। घोसी संसदीय सीट पर नए सांसद के निर्वाचन के लिए सातवें चरण में एक जून को मतदान हुआ था। आइएनडीआइ के सपा प्रत्याशी राजीव राय मतगणना आरंभ होने के बाद प्रथम चक्र से ही जो बढ़त बनाई वह अंत तक कायम रही।

जनता को साधने में सफल रहे राजीव

घोसी संसदीय सीट पर आइएनडीआइ गठबंधन से सपा के प्रत्याशी राजीव राय ने एनडीए के सुभासपा उम्मीदवार डा. अरविंद राजभर को 162943 मतों से हरा कर जीत दर्ज की। कुल पड़े 11,47,213 मतों में से राजीव राय को 503131 मत मिले हैं, जबकि सुभासपा उम्मीदवार डा. अरविंद राजभर को 340188 मत प्राप्त हुए हैं। बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी पूर्व सांसद बालकृष्ण चौहान 208708 मत पाकर तीसरे स्थान पर रहें।

जिला निर्वाचन अधिकारी प्रवीण मिश्र ने देर रात को विजयी प्रत्याशी राजीव राय को प्रमाण पत्र प्रदान किया। नवीन सब्जी मंडी पर सुबह आठ बजे से ही मतगणना शुरू हो गई थी। पहले बैलेट पेपर की मतगणना हुई। उसके बाद ईवीएम की मतगणना शुरू हुई। मंगलवार की देर रात साढ़े नौ बजे तक चुनाव परिणाम घोषित होते ही लोकसभा घोसी को राजीव राय के रूप में नया सांसद मिल गया।

घोसी संसदीय सीट पर नए सांसद के निर्वाचन के लिए सातवें चरण में एक जून को मतदान हुआ था। इस दौरान कुल 55.05 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया था। आइएनडीआइ के सपा प्रत्याशी राजीव राय मतगणना आरंभ होने के बाद प्रथम चक्र से ही जो बढ़त बनाई वह अंत तक कायम रही।

बीच में एक-दो चक्रों में वह जरूर पिछड़ते दिखे लेकिन फिर अगले चरणों में लगातार बढ़त बनाए रखी और जीत की ओर बढ़ते रहे। सपा के राष्ट्रीय सचिव राजीव राय ने पार्टी प्रत्याशी के रूप में वर्ष 2014 में हुए 16वें संसदीय चुनाव में भी भाग्य आजमाया था लेकिन प्रचंड मोदी लहर में उन्हें हार का सामना करना पड़ा था और वे चौथे स्थान पर रहे थे।

मोदी फैक्टर नहीं आया काम

घोसी लोकसभा चुनाव में मोदी-योगी फैक्टर काम नहीं आया। इसके साथ ही डेरा डाले तीन कैबिनेट मंत्री एके शर्मा, ओमप्रकाश राजभर व दारा सिंह चौहान भी अपनी प्रतिष्ठा नहीं बचा सके। सपा प्रत्याशी राजीव राय का जनता के बीच रहने व उनके सुख-दुख में रहने का फैक्टर काम आ गया और जनता ने उन्हें पसंद कर झूमकर वोट किया।

मतगणना के अंतिम चरण पूरा होने के पूर्व ही स्वयं को गिनती में काफी पिछड़ता देख बसपा उम्मीदवार बालकृष्ण चौहान 26वें चरण में वोटों की गिनती पूर्ण होते ही मतगणना स्थल से निकल गए, उनके साथ ही उनके समर्थक भी परिणाम तय जान वहां से चल दिए। घोसी लोकसभा की चार विधानसभा का चुनाव परिणाम शाम तक ही आ गया था।

बलिया की रसड़ा विधानसभा का चुनाव ईवीएम में तकनीकी दिक्कत आने की वजह से साढ़े नौ बजे के करीब आया। इसकी वजह से जिला निर्वाचन अधिकारी प्रवीण मिश्र सहित आला अफसर हांफते नजर आए। परिणाम आने के बाद सपा समर्थक खुशी से झूम उठे। जगह-जगह मिठाई बांटकर खुशियां मनाईं।