संसू, भोगांव: आधुनिक सिग्नल सिस्टम से ट्रेनों का संचालन करने के लिए नई मशीनों को लगाने के काम ने गति पकड़ ली है। स्मार्ट सिग्नल और बिना टोकन से ट्रेनों को गुजारने के लिए भोगांव स्टेशन पर सिग्नल विभाग ने काम तेज कर दिया है। दो महीने में पुराने सिग्नल सिस्टम से काम बंद कराकर नई प्रणाली का उपयोग किया जाएगा।

शिकोहाबाद-फर्रुखाबाद रेल रूट पर ट्रेनों की रफ्तार बढ़ाने से पहले सिग्नल सिस्टम में बदलाव किया जा रहा है। इस रूट के मोटा और कोसमा स्टेशन पर सालिड स्टेट इंटरलाकिग सिस्टम से ट्रेनों का संचालन शुरू हो चुका है। कोसमा स्टेशन पर फरवरी में काम पूरा होते ही अब भोगांव रेलवे स्टेशन पर नई मशीनों का लगाने का काम शुरू कर दिया है। इलेक्ट्रानिक इंटरलाकिग सिस्टम के प्रभावी होते ही ट्रेनों का संचालन करने के लिए टोकन की पुरानी व्यवस्था समाप्त हो जाएगी। इसके अतिरिक्त प्वाइंट बनाने के लिए कंप्यूटर से आपरेटिग होगी। सिग्नल विभाग टूंडला के अधिकारियों की निगरानी में नए सिस्टम को लगाने के लिए भोगांव स्टेशन पर काम तेज करा दिया गया है। स्टेशन मास्टर अतीक अहमद ने अपनी निगरानी में काम कर रहे कर्मचारियों से सिग्नल सिस्टम के लिए लग रहीं आधुनिक मशीनों के बारे में जानकारी जुटाई। उन्होंने बताया कि सिग्नल सिस्टम के संचालित होते ही ट्रेनों का परिचालन पहले से बेहतर हो जाएगा। वर्जन

शिकोहाबाद-फर्रुखाबाद रेल रूट पर स्मार्ट सिग्नल से यात्री व मालगाड़ियों का संचालन करने के लिए जरूरी कार्रवाई चल रही है। तीन स्टेशनों पर काम पूरा होने के बाद अब भोगांव स्टेशन पर दो महीने में इस प्रक्रिया को पूरा करने का प्रयास किया जा रहा है। भोगांव में काम पूरा होते ही ट्रेनों का संचालन पहले से बेहतर होगा।

अरविद यादव, एसएसई सिग्नल, टूंडला

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप