मैनपुरी, जागरण टीम। शहर कोतवाली क्षेत्र में स्थित आसरा आवास कालोनी निवासी रिजवान शनिवार शाम गिरफ्तारी से बचने के लिए तालाब में कूद गए थे। कुछ दूर तक तैरने के बाद वे तालाब में डूब गए थे। पुलिस ने उनकी तलाश शुरू की, लेकिन पता नहीं चला। बाद में पीएसी गोताखोर और एनडीआरएफ की टीम ने उनकी तलाश शुरू की, लेकिन बरामद नहीं कर सके। घटना को लेकर मुस्लिम समाज के लोगों में आक्रोश फैल गया।

आगरा रोड पर लगाया जाम

रविवार दोपहर मुस्लिम समाज के लोगों ने शहर में आगरा रोड पर जाम लगा दिया और घटना के लिए पुलिसकर्मियों को जिम्मेदार बताते हुए नारेबाजी शुरू कर दी। बाद में पुलिस अधिकारियों ने समझा-बुझाकर जाम खुलवाया।

ये भी पढ़ें...

Agra News: पति ने गर्लफ्रेंड के डर से साथ नहीं घुमाई पत्नी, चार साल बर्दाश्त की बेरुखी, अब लिखाई रिपोर्ट

पुलिस की एक टीम पहुंची थी ताल दरवाजे

शनिवार शाम पुलिस की एक टीम शहर में ताल दरवाजे के पास पहुंची थी। तीन युवक पुलिस को देखकर भागने लगे। संदेह होने पर पुलिस ने पीछा किया तो दाे युवक गलियों में गायब हो गए। जबकि एक युवक ने तालाब की ओर दौड़ लगा दी। गिरफ्तारी से बचने के लिए युवक तालाब में कूद गया। कुछ दूर तक उसे तैरते हुए देखा गया, लेकिन बाद में डूबने लगा। पानी अधिक होने के कारण कोई भी उसे बचाने का साहस नहीं कर सका। गोताखोरों के उपलब्ध न होने के कारण युवक को तलाश कर निकालने में सफलता नहीं मिल सकी है।

ये भी पढ़ें...

Mainpuri By Election: नहीं है मतदाता पहचान पत्र तो इन दस्तावेजों से डाल सकते हैं वोट, लाइव प्रसारण भी होगा

घटना के लिए पुलिस कर्मियों को जिम्मेदार बताया

शनिवार को मौके पर मौजूद गुलजार निवासी आसरा आवास कालोनी ने बताया कि तालाब में डूबा युवक उनका पुत्र रिजवान है। रिजवान के खिलाफ कोर्ट ने वारंट जारी किया था। पुलिस उसे तलाश कर रही थी। शनिवार को वह गुलाब बाग में रह रहे अपने चाचा चमन के घर आया था तभी पुलिस ने उस खदेड़ा। जिससे रिजवान तालाब में कूद गया। गुलजार ने घटना के लिए पुलिस कर्मियों को जिम्मेदार बताया। सीओ सिटी संतोष कुमार सिंह ने बताया कि डूबे हुए युवक की तलाश नहीं हो सकी है। 

Edited By: Abhishek Saxena

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट