जागरण संवाददाता, मैनपुरी: ढाई माह पहले गायब हुई दलित युवती को दिल्ली में रह रहे मुस्लिम युवक ने अगवा किया था। युवती का जबरन धर्म परिवर्तन कराकर उससे निकाह भी कर लिया और उसे बंधक बनाकर वहीं रखा गया। मैनपुरी पुलिस ने उसे मुक्त करा लिया है।

मैनपुरी शहर में रहने वाली दलित युवती ढाई माह पहले रहस्यमय ढंग से गायब हो गई थी। उसकी मां ने पड़ोस में रहने वाली बेटी की सहेली के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई थी। सहेली ने पुलिस को बताया कि एटा के जलेसर निवासी जुनैद ने युवती को अगवा किया है। पुलिस ने जुनैद के मोबाइल की लोकेशन के आधार पर उसका ठिकाना तलाशा। मंगलवार रात कोतवाली पुलिस ने दिल्ली पुलिस के साथ दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर पर टिकरी इलाके में घनी बस्ती में छापा मारा और जुनैद को गिरफ्तार कर लिया। उसकी निशानदेही पर एक कमरे में बंद युवती को मुक्त कराया गया। पुलिस के साथ पहुंची मां को देख बदहवास युवती रोने लगी। युवती ने पुलिस व अपनी मां को बताया कि वह अपनी सहेली के साथ कुछ माह पहले काम से आगरा गई थी। तभी वहां दिल्ली में रह रहे जुनैद से उसकी मुलाकात हुई। जुनैद मूल रूप से एटा का रहने वाला है। आगरा से लौटने के बाद युवक ने मोबाइल फोन पर बातचीत शुरू कर दी। उसके कहने पर 24 अक्टूबर को वह घर से निकल आई। युवक कुछ साथियों के साथ जुनैद उसे रास्ते में मिला और उसे दिल्ली ले गया। वहां एक मस्जिद में उसका जबरन धर्म परिवर्तन कराया गया। अगवा कर ले गए युवक के साथ उसका निकाह भी जबरन करा दिया गया। बाद में उसे एक कोठरी में बंधक बनाकर रखा गया।

पीड़िता की मां ने बताया कि वहां उसकी बेटी से दुष्कर्म किया जाता था। लगातार बंधक बनाए रखने से युवती की मानसिक हालत बिगड़ने लगी। आरोपी उसे कहीं बेचने की फिराक में थे। पुलिस ने जुनैद को हिरासत में ले लिया है। युवती की मानसिक स्थिति ठीक न होने की वजह से अभी उसके बयान दर्ज नहीं हो सके हैं।

कोतवाली के एसएसआइ सुदेश पाल ¨सह ने बताया कि युवती के बयान के आधार पर कार्रवाई की जाएगी।

By Jagran